Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
झारखंड

लातेहार, पलामू सहित झारखण्ड के कई जिलों में हो सकता है बिजली संकट

झारखंड के बिजली उत्पादन संयंत्रों का उत्पादन प्रभावित होने से राज्य में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। इससे बिजली संकट गहरा सकता है। राज्य के तीन बिजली संयंत्रों से उत्पादन ठप हो गया है।

इस वजह से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, जमशेदपुर, चाईबासा, गढ़वा, पलामू, लातेहार और संताल-परगना के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। शुक्रवार की रात टीवीएनएल की एक इकाई ठप हो गई। यह इकाई 150 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर रहा था। यूनिट के बंद होने से 150 मेगावाट बिजली कम हो गई। वहीं दूसरी ओर आधुनिक पावर प्लांट की एक इकाई ठप हो गई। बिजली संयंत्र की दो इकाइयों से लगभग कुल 180 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है।

हालाँकि आधुनिक पावर प्लांट से लगभग 40 से 80 MW बिजली प्राप्त की जा सकती है। जो अन्य दिनों की तुलना में 100 MW कम है। इनलैंड पावर स्टेशन का उत्पादन भी ठप हो गया है । इस पावर प्लांट से राजधानी रांची को 50 MW बिजली मिलती है. तीनों बिजली संयंत्रों के बंद होने से राज्य में पीक Hour में करीब 350 मेगावाट की कमी रही।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *