Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

लातेहार, पलामू सहित झारखण्ड के कई जिलों में हो सकता है बिजली संकट

झारखंड के बिजली उत्पादन संयंत्रों का उत्पादन प्रभावित होने से राज्य में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। इससे बिजली संकट गहरा सकता है। राज्य के तीन बिजली संयंत्रों से उत्पादन ठप हो गया है।

इस वजह से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, जमशेदपुर, चाईबासा, गढ़वा, पलामू, लातेहार और संताल-परगना के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। शुक्रवार की रात टीवीएनएल की एक इकाई ठप हो गई। यह इकाई 150 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर रहा था। यूनिट के बंद होने से 150 मेगावाट बिजली कम हो गई। वहीं दूसरी ओर आधुनिक पावर प्लांट की एक इकाई ठप हो गई। बिजली संयंत्र की दो इकाइयों से लगभग कुल 180 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है।

हालाँकि आधुनिक पावर प्लांट से लगभग 40 से 80 MW बिजली प्राप्त की जा सकती है। जो अन्य दिनों की तुलना में 100 MW कम है। इनलैंड पावर स्टेशन का उत्पादन भी ठप हो गया है । इस पावर प्लांट से राजधानी रांची को 50 MW बिजली मिलती है. तीनों बिजली संयंत्रों के बंद होने से राज्य में पीक Hour में करीब 350 मेगावाट की कमी रही।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *