Breaking :
||स्पेनिश महिला पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को भेजा गया जेल, पीड़ित दंपति का कोर्ट में बयान दर्ज||लातेहार: मनिका में संदेहास्पद स्थिति में पेड़ से लटका मिला युवक का शव||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार
Sunday, March 3, 2024
चतराझारखंड

चतरा में दादा-पोते की संदिग्ध मौत, शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम

पुलिस ने चतरा जिले के सिमरिया थाना क्षेत्र के गोठाइ गांव के पास से संदिग्ध हालत में दो व्यक्तियों के शव बरामद किए हैं। शव मिलने की खबर मिलते ही इलाके में सनसनी फैल गई। मृतक आपस में दादा और पोते हैं। दादा का नाम सुरेश साहू और पोते का नाम सोनू कुमार है। मृतक दादा और पोता लावालौंग थाना क्षेत्र के लमटा गांव के रहने वाले हैं।

मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को दोनों मोटरसाइकिल पर जबरा गांव गए थे। सुरेश साहू की बेटी जबरा गांव में रहती है। बेटी से मिलने के बाद दामाद से मिलने की बारी आई। बगरा मोड़-लावालौंग के रास्ते में एक दामाद का होटल है। दादा और पोते ने होटल में नाश्ता किया और शाम करीब पांच बजे बाइक से लमटा गांव के लिए निकले। लेकिन देर रात तक दोनों घर नहीं पहुंचे। सुबह परिजनों को गोठाइ गांव के पास एक पेड़ के नीचे दोनों के शव मिलने की सूचना मिली।

इधर दादा-पोते की संदेहास्पद मौत के बाद ग्रामीणों ने हत्यारे की गिरफ्तारी और 25 लाख मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम कर दिया। जाम की सूचना पर पहुंचे सीओ व थाना प्रभारी से वार्ता के बाद जाम हटाया गया।

पुलिस अधिकारियों ने आशंका जताई है कि बारिश से बचने के लिए दादा-पोता पेड़ के पास खड़े रहे होंगे और इसी क्रम में वज्रपात हुई होगी। जिससे दोनों की मौत हो गई।

पूर्व अध्यक्ष अमित चौबे ने बताया कि सुरेश साहू एक साधारण व्यक्ति थे। उसकी गांव में किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। संभव है कि वज्रपात से दोनों की मौत हो गई हो। लेकिन चेहरे पर मारपीट के निशान थोड़ा संदेह पैदा कर रहे हैं।

सिमरिया थाना प्रभारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद पूरी स्थिति साफ हो सकेगी।