Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

निलंबित कांग्रेस विधायकों को स्पीकर का नोटिस, शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर पार्टी ने की है कार्रवाई की मांग

रांची : झारखंड में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच कांग्रेस ने पार्टी विरोधी कार्य में शामिल तीन निलंबित विधायक इरफान अंसारी, नमन विक्सल कोंगाडी और राजेश कच्छप पर स्पीकर ट्रिब्यूनल में शिकायत दर्ज कराई है।

स्पीकर ने उन्हें नोटिस भेजा है। कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने तीनों विधायकों पर दलबदल का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारी के मुताबिक स्पीकर ट्रिब्यूनल ने तीनों विधायकों को नोटिस जारी किया है। उन्हें एक सितंबर तक अपना पक्ष रखने को कहा गया है। जमानत मिलने के बाद तीनों विधायक कोलकाता में हैं। कांग्रेस विधायक शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर कार्रवाई की मांग की गई है।

शिकायत करने वाले विधायकों के अनुसार, तीन निलंबित विधायकों को भाजपा में शामिल होने के लिए 10 करोड़ रुपये और एक मंत्री पद की पेशकश की गई थी। इससे पहले पार्टी ने तीनों विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किये गया था।

आपको बता दें कि बीते दिनों तीनों विधायक हावड़ा में पकड़े गए थे और उनके पास से 49 लाख रुपये नकद बरामद हुए थे। कोलकाता सीआईडी ​​पूरे मामले की जांच कर रही है। हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद इरफान अंसारी और राजेश कच्छप ने खुद को कांग्रेस का वफादार सिपाही बताते हुए खुद को साजिश में फंसाने का आरोप लगाया था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कांग्रेस के इस कदम से साफ हो गया है कि मौजूदा राजनीतिक हालात में सभी विधायकों को यह बताने की कोशिश की जा रही है कि अगर पार्टी के फैसले के खिलाफ जाते हैं तो बड़ी कार्रवाई हो सकती है।