Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
झारखंडरांची

निलंबित कांग्रेस विधायकों को स्पीकर का नोटिस, शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर पार्टी ने की है कार्रवाई की मांग

रांची : झारखंड में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच कांग्रेस ने पार्टी विरोधी कार्य में शामिल तीन निलंबित विधायक इरफान अंसारी, नमन विक्सल कोंगाडी और राजेश कच्छप पर स्पीकर ट्रिब्यूनल में शिकायत दर्ज कराई है।

स्पीकर ने उन्हें नोटिस भेजा है। कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने तीनों विधायकों पर दलबदल का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारी के मुताबिक स्पीकर ट्रिब्यूनल ने तीनों विधायकों को नोटिस जारी किया है। उन्हें एक सितंबर तक अपना पक्ष रखने को कहा गया है। जमानत मिलने के बाद तीनों विधायक कोलकाता में हैं। कांग्रेस विधायक शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर कार्रवाई की मांग की गई है।

शिकायत करने वाले विधायकों के अनुसार, तीन निलंबित विधायकों को भाजपा में शामिल होने के लिए 10 करोड़ रुपये और एक मंत्री पद की पेशकश की गई थी। इससे पहले पार्टी ने तीनों विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किये गया था।

आपको बता दें कि बीते दिनों तीनों विधायक हावड़ा में पकड़े गए थे और उनके पास से 49 लाख रुपये नकद बरामद हुए थे। कोलकाता सीआईडी ​​पूरे मामले की जांच कर रही है। हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद इरफान अंसारी और राजेश कच्छप ने खुद को कांग्रेस का वफादार सिपाही बताते हुए खुद को साजिश में फंसाने का आरोप लगाया था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कांग्रेस के इस कदम से साफ हो गया है कि मौजूदा राजनीतिक हालात में सभी विधायकों को यह बताने की कोशिश की जा रही है कि अगर पार्टी के फैसले के खिलाफ जाते हैं तो बड़ी कार्रवाई हो सकती है।