Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
झारखंड

नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों ने बनाया हेलीपैड, सप्लाई चेन बाधित

झारखंड पुलिस ने छत्तीसगढ़ की सीमा से महज डेढ़ किलोमीटर पहले नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों के बहराटोली कैंप के पास एक हेलीपैड बनाया है, जहां पुलिस को उतारने, ले जाने, बचाने और उन्हें जिन वस्तुओं की आवश्यकता है उसे पहुंचाने में मदद करती है। इस कैंप से डेढ़ किलोमीटर दूर पुंदाग है, जहां से छत्तीसगढ़ की सीमा मिलती है।

झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के जवान छत्तीसगढ़ की सीमा के पास नक्सलियों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. सीआरपीएफ, गढ़वा पुलिस और झारखंड जगुआर की स्मॉल एक्शन टीम के जवान यहां के सुरक्षा कैंप में ऑपरेशन में जुटे हैं। पुलिस को जानकारी है कि झारखंड के बूढ़ा पहाड़ में ऑपरेशन तेज होते ही नक्सली छत्तीसगढ़ की सीमा में घुस जाते हैं। ऑपरेशन धीमा होने पर नक्सली फिर झारखंड आ जाते हैं।

झारखंड पुलिस ने हाल ही में कुल्ही में बूढ़ा पहाड़ पर एक और कैंप बनाया है। इस कैंप के बनने से नक्सलियों तक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो जाएगी। झारखंड पुलिस की इस मुहिम के पीछे और सुरक्षाबलों के कैंप की लोकेशन बदलने का मकसद नक्सलियों की सप्लाई चेन को बाधित करना है।

झारखंड पुलिस को जानकारी है कि बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र में अब छोटे-छोटे नक्सली ही बचे हैं। एक बड़ा नक्सली रिजनल कमांडर रवींद्र गंझू है, जो लातेहार, लोहरदगा आदि क्षेत्र में सक्रिय है और बूढ़ा पहाड़ में भी शरण लेता है। पुलिस को उम्मीद है कि रवींद्र गंझू के दस्ते पर कार्रवाई के बाद पूरा इलाका लगभग शांत हो जाएगा, जिसकी घेराबंदी जारी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

बूढ़ा पहाड़ पर हेलीपैड