Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
झारखंड

नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों ने बनाया हेलीपैड, सप्लाई चेन बाधित

झारखंड पुलिस ने छत्तीसगढ़ की सीमा से महज डेढ़ किलोमीटर पहले नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों के बहराटोली कैंप के पास एक हेलीपैड बनाया है, जहां पुलिस को उतारने, ले जाने, बचाने और उन्हें जिन वस्तुओं की आवश्यकता है उसे पहुंचाने में मदद करती है। इस कैंप से डेढ़ किलोमीटर दूर पुंदाग है, जहां से छत्तीसगढ़ की सीमा मिलती है।

झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के जवान छत्तीसगढ़ की सीमा के पास नक्सलियों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. सीआरपीएफ, गढ़वा पुलिस और झारखंड जगुआर की स्मॉल एक्शन टीम के जवान यहां के सुरक्षा कैंप में ऑपरेशन में जुटे हैं। पुलिस को जानकारी है कि झारखंड के बूढ़ा पहाड़ में ऑपरेशन तेज होते ही नक्सली छत्तीसगढ़ की सीमा में घुस जाते हैं। ऑपरेशन धीमा होने पर नक्सली फिर झारखंड आ जाते हैं।

झारखंड पुलिस ने हाल ही में कुल्ही में बूढ़ा पहाड़ पर एक और कैंप बनाया है। इस कैंप के बनने से नक्सलियों तक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो जाएगी। झारखंड पुलिस की इस मुहिम के पीछे और सुरक्षाबलों के कैंप की लोकेशन बदलने का मकसद नक्सलियों की सप्लाई चेन को बाधित करना है।

झारखंड पुलिस को जानकारी है कि बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र में अब छोटे-छोटे नक्सली ही बचे हैं। एक बड़ा नक्सली रिजनल कमांडर रवींद्र गंझू है, जो लातेहार, लोहरदगा आदि क्षेत्र में सक्रिय है और बूढ़ा पहाड़ में भी शरण लेता है। पुलिस को उम्मीद है कि रवींद्र गंझू के दस्ते पर कार्रवाई के बाद पूरा इलाका लगभग शांत हो जाएगा, जिसकी घेराबंदी जारी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

बूढ़ा पहाड़ पर हेलीपैड