Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

फेमिना मिस इंडिया में पहुंचने वाली झारखंड की पहली आदिवासी महिला बनीं रिया तिर्की

सीएम हेमंत सोरेन ने दी बधाई

झारखंड की राजधानी रांची की रहने वाली रिया तिर्की रविवार 3 जुलाई को फेमिना मिस इंडिया के ग्रैंड फिनाले में झारखंड का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। आदिवासी समुदाय की रिया तिर्की ने अपनी योग्यता से झारखंड का मान बढ़ाया है। हर कोई आज उन्हें शुभकामनाएं और प्यार भेज रहा है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने खुद ट्वीट कर उन्हें बधाई दी है। हेमंत सोरेन ने लिखा है कि यह गर्व का क्षण है। झारखंड की रिया तिर्की को बहुत-बहुत बधाई।

मालूम हो कि आदिवासी समुदाय से आने वाली रिया तिर्की रांची के विवेकानंद विद्या मंदिर की छात्रा रह चुकी हैं। उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में स्थित पीबी सिद्धार्थ कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस से की। वह एक बेहतरीन मॉडल और अभिनेत्री हैं। वह बैडमिंटन, बैंकिंग और एथोलॉजी में बहुत रुचि रखती हैं। आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली रिया फेमिना मिस इंडिया के ग्रैंड फिनाले में यह मुकाम हासिल करने वाली पहली महिला हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

24 साल की रिया तिर्की ने साल 2015 में इस प्रतियोगिता की तैयारी शुरू कर दी थी। करीब 8 साल की मेहनत के बाद वह इस मुकाम पर पहुंची हैं। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से साबित कर दिया है कि संघर्ष के बल पर हर कोई अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है। आपको बस धैर्य और समर्पण के साथ कड़ी मेहनत करने की जरूरत है।