Breaking :
||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री||JPSC पीटी के मॉडल आंसर को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज, परीक्षा का रास्ता साफ||लातेहार: सेरेगड़ा पंचायत सेवक अर्जुन राम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||झारखंड में चार DSP की ट्रांसफर-पोस्टिंग, समीर कुमार सवैया बने किस्को के DSP||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री||वन भूमि से कब्जा हटाने गयी टीम पर ग्रामीणों का हमला, पत्थरबाजी में वन क्षेत्र पदाधिकारी समेत एक दर्जन घायल||झारखंड में इस तारीख को मानसून की एंट्री, बारिश और वज्रपात का अलर्ट||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस
Friday, June 21, 2024
झारखंडरांची

अब रांची-गुमला मार्ग पर भी टोल टैक्स वसूलने की तैयारी

रांची : रांची से गुमला जाने पर भी वाहन चालकों को टोल टैक्स देना होगा। रांची से बेड़ो तक फोर लेन सड़क दो साल पहले बनी थी। इसमें अब टोल टैक्स वसूलने की तैयारी की जा रही है।

बेड़ो से पहले सेमरा के पास टोल प्लाजा बनाने की योजना है, जो पहले जमीन की समस्या के चलते नहीं बन रहा था। अब बाधाएं दूर हो गई हैं।

एनएचएआई के अधिकारियों द्वारा जानकारी देने पर डीसी की पहल के बाद समस्या का समाधान किया गया है। अब यहां टोल प्लाजा की स्थापना के लिए जमीन दी जा रही है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि दो-तीन महीने में टोल प्लाजा बन जाएगा। इसके बाद कंपनी को टोल वसूली के लिए आमंत्रित किया जाएगा। सभी जरूरी प्रक्रिया पूरी करने के बाद टोल टैक्स वसूला जाएगा।

सेमरा में टोल प्लाजा बनेगा तो बेड़ो जाने पर टैक्स लगेगा। इस मार्ग से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, छत्तीसगढ़, ओडिशा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र आदि जाने वाले वाहनों को टैक्स देना होगा। अभी पालमा से गुमला तक फोर लेन सड़क का काम चल रहा है।

इस सड़क के फोर लेन होने के बाद पालमा और गुमला के बीच टोल प्लाजा बनाया जाएगा। रांची से पालमा तक फोर लेन सड़क निर्माण के दौरान सेमरा में टोल प्लाजा बनाने के लिए जमीन चिन्हित की गई थी। ग्रामीणों के विरोध के बाद यह नहीं हो सका।