Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
झारखंडरांची

अब झारखंड के सरकारी स्कूलों में बच्चों को मध्याह्न भोजन में मिलेगा मुनगा

रांची : राज्य के सरकारी स्कूलों के बच्चों को प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना के तहत मध्याह्न भोजन दिया जाता है। बच्चों को प्रतिदिन परोसने के लिए एक मेनू तैयार किया जाता है। बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए इस बार बच्चों के भोजन में मुनगा भी शामिल किया जायेगा। झारखंड राज्य मध्याह्न भोजन प्राधिकरण की निदेशक किरण कुमारी पासी ने इसकी जानकारी सभी जिला शिक्षा अधीक्षकों को दे दी है।

निदेशक ने पत्र में लिखा है कि पीएम पोषण शक्ति निर्माण योजना के तहत छात्रों को मध्याह्न भोजन उपलब्ध कराया जाता है। भोजन की पौष्टिकता को ध्यान में रखते हुए विस्तृत दिशा-निर्देश दिये गये हैं। बच्चों को मध्यान्ह भोजन में मुनगा भी दिया जायेगा। भारत सरकार द्वारा दिये गये निर्देशों के बाद इस उत्पाद को शामिल किया गया है। इतना ही नहीं, स्कूलों में मुनगा का पौधा भी लगाया जायेगा, ताकि बच्चे मुनगा का भरपूर सेवन कर सकें। स्कूलों में मुनगा के पौधे रोपने का उपयुक्त समय जुलाई से सितम्बर है। झारखंड में मुनगा को स्थानीय भाषा में मुनगा कहा जाता है।

निदेशक ने निर्देशित किया है कि स्कूलों में मुनगा के पौधे लगाने और इसके उत्पाद (फल, फूल और पत्तियां) का उपयोग मध्यान्ह भोजन में करने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाये। साथ ही दिये गये निर्देश के आलोक में जिले के मौजूदा स्कूलों में मुनगा के पौधों की उपलब्धता होनी चाहिए।

Jharkhand Schools midday meal munga