Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
झारखंड

नक्सली बंदी कल, पुलिस और प्रशासन सतर्क

नक्सली बंदी

माओवादियों ने 5 अप्रैल को चार राज्यों में बंद की घोषणा की है। इसकी घोषणा करते हुए पूर्वी रीजनल ब्यूरो माओवादी के प्रवक्ता संकेत ने प्रेस रिलीज जारी किया है। प्रेस रिलीज जारी कर बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और असम बंद करने की घोषणा की है।

जारी प्रेस रिलीज में बताया गया है कि केंद्रीय कमेटी और पूर्वी रीजनल ब्यूरो सदस्य अरुण कुमार भट्टाचार्य उर्फ कंचन की गिरफ्तारी के विरोध में बंद बुलाया गया है। रिलीज में बताया गया है कि कंचन को हिरासत में लेकर पूछताछ के नाम पर मानसिक यातनाएं दी जा रही है। बेहतर इलाज की समुचित व्यवस्था, आवश्यक दवाएं मुहैया करने में कोताही बरतने, राजनीतिक बंदी का दर्जा देने और अविलंब बिना शर्त रिहा करने को लेकर 5 अप्रैल को बंद बुलाया गया है।

पुलिस और प्रशासन सतर्क

इस चेतावनी के बाद झारखंड पुलिस सतर्क हो गई है। बंद को देखते हुए रेलवे और झारखंड पुलिस अलर्ट हो गई है। पुलिस मुख्यालय ने जिले के सभी एसपी को सतर्क रहने और अति संवेदनशील इलाकों में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें :- नेतरहाट स्कूल में एडमिशन के लिए झारखण्ड का निवासी होना अनिवार्य

नक्सली बंद के दौरान माओवादी पुलिस बलों पर हमला करने का प्रयास किया जा सकता है। ऐसे में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस को पूरी तरह सतर्क और तैयार रहने को कहा गया है। आईजी अभियान के मुताबिक नक्सली बंद के दौरान उनका मुख्य फोकस नक्सलियों के उन इलाकों पर है जहां वे सक्रिय हैं। लातेहार, गढ़वा, रांची के पारसनाथ, झुमरा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों, पलामू कोल्हान, सरायकेला, गुमला जैसे जिलों पर विशेष नजर रखने पर जोर दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

नक्सली बंदी