Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

सहमति से शारीरिक संबंध बनाने के बाद विवाहित महिला नहीं लगा सकती यौन शोषण का आरोप : हाईकोर्ट

रांची : झारखंड हाई कोर्ट के जज जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की बेंच ने शनिवार को मनीष कुमार की याचिका पर सुनवाई करते हुए अहम फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि अगर एक विवाहित महिला अपने पति के अलावा किसी अन्य पुरुष के साथ सहमति से यौन संबंध बनाती है, तो वह उस व्यक्ति पर बलात्कार का मुकदमा नहीं चला सकती है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विवाहित महिला को शादी का झूठा वादा कर शारीरिक संबंध के लिए राजी नहीं किया जा सकता। क्योंकि ऐसा वादा अपने आप में अवैध है। इसके साथ ही कोर्ट ने मामले को आगे की कार्रवाई के लिए देवघर के संबंधित कोर्ट को रेफर कर दिया।

दरअसल, मनीष कुमार ने अपने खिलाफ दर्ज शिकायत को रद्द करने की गुहार लगाते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी और कहा था कि इसमें जो भी आरोप लगाए गये हैं, वे सही नहीं हैं। याचिका में कहा गया है कि देवघर की एक विवाहिता से उसके संबंध थे। महिला ने बताया था कि वह शादीशुदा है और पति से तलाक का मामला चल रहा है। उसने मनीष के साथ सहमति से शारीरिक संबंध बनाये।

याचिकाकर्ता के मुताबिक महिला ने कहा कि पति से तलाक के बाद वह शादी कर लेगी। बाद में मनीष ने शादी से इंकार कर दिया। इसके बाद महिला ने देवघर कोर्ट में मनीष के खिलाफ धोखाधड़ी कर शारीरिक संबंध बनाने की शिकायत दर्ज करायी। निचली अदालत ने भी इसका संज्ञान लिया था। इसके खिलाफ मनीष ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर केस रद करने की गुहार लगायी थी।