Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली
Saturday, May 25, 2024
झारखंडरांची

सहमति से शारीरिक संबंध बनाने के बाद विवाहित महिला नहीं लगा सकती यौन शोषण का आरोप : हाईकोर्ट

रांची : झारखंड हाई कोर्ट के जज जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की बेंच ने शनिवार को मनीष कुमार की याचिका पर सुनवाई करते हुए अहम फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि अगर एक विवाहित महिला अपने पति के अलावा किसी अन्य पुरुष के साथ सहमति से यौन संबंध बनाती है, तो वह उस व्यक्ति पर बलात्कार का मुकदमा नहीं चला सकती है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विवाहित महिला को शादी का झूठा वादा कर शारीरिक संबंध के लिए राजी नहीं किया जा सकता। क्योंकि ऐसा वादा अपने आप में अवैध है। इसके साथ ही कोर्ट ने मामले को आगे की कार्रवाई के लिए देवघर के संबंधित कोर्ट को रेफर कर दिया।

दरअसल, मनीष कुमार ने अपने खिलाफ दर्ज शिकायत को रद्द करने की गुहार लगाते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी और कहा था कि इसमें जो भी आरोप लगाए गये हैं, वे सही नहीं हैं। याचिका में कहा गया है कि देवघर की एक विवाहिता से उसके संबंध थे। महिला ने बताया था कि वह शादीशुदा है और पति से तलाक का मामला चल रहा है। उसने मनीष के साथ सहमति से शारीरिक संबंध बनाये।

याचिकाकर्ता के मुताबिक महिला ने कहा कि पति से तलाक के बाद वह शादी कर लेगी। बाद में मनीष ने शादी से इंकार कर दिया। इसके बाद महिला ने देवघर कोर्ट में मनीष के खिलाफ धोखाधड़ी कर शारीरिक संबंध बनाने की शिकायत दर्ज करायी। निचली अदालत ने भी इसका संज्ञान लिया था। इसके खिलाफ मनीष ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर केस रद करने की गुहार लगायी थी।