Breaking :
||बालूमाथ: शार्ट सर्किट से हाइवा वाहन में लगी आग, जलकर राख||बालूमाथ: महिला का अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ठगे सात लाख रुपये, गिरफ्तार||बालूमाथ: सरस्वती पूजा को लेकर निकाली गयी शोभायात्रा पर मधुमक्खियों का हमला, मची अफरा-तफरी||लातेहार: बालूमाथ में अवैध कोयला लदा पांच हाइवा जब्त, तीन गिरफ्तार||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित||आईईडी ब्लास्ट में फिर एक जवान घायल, लाया गया रांची||लातेहार जिले के लिए गौरव भरा पल…राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर राज्यपाल ने डीसी को किया सम्मानित

सावधान ! अगर आपके वाहन में नहीं लगा है फास्टैग तो मेदिनीनगर से रांची जाने के दौरान देना होगा दोगुना टोल टैक्स

mandar toll plaza fastag

अगर आप मेदिनीनगर से रांची जा रहे हैं तो माण्डर शहर से पहले हेस्मि में स्थित टोल प्लाजा से गुजरना ही होगा। इस स्थिति में अगर आपके वाहन में फास्टैग नहीं लगा हैं तो आपको दोगुना टोल टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा। ज्ञात हो की केंद्र सरकार ने पिछले वर्ष ही फास्टैग को अनिवार्य कर दिया हैं।

क्या होता है फास्टैग?

फास्टैग एक तरह का स्टिकर होता है। जिसे वाहन की विंडस्क्रीन पर लगाना होता है। यह RFID तकनीक पर काम करता है। इस तकनीक के जरिए टोल प्लाजा पर लगे कैमरे स्टिकर के बार-कोड को स्कैन कर लेते हैं। टोल टैक्स अपने आप फास्टैग के वॉलेट से कट जाती है। फास्टैग के इस्तेमाल से वाहन चालक को टोल टैक्स के भुगतान के लिए इंतज़ार नहीं करना पड़ता है। टोल प्लाजा पर यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

कहां से खरीदें फास्टैग?

फास्टैग को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से खरीदा जा सकता है। किसी भी ऑथराइज्ड बैंक या अमेजन, फ्लिपकार्ट जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफऑर्म से ऑनलाइन फास्टैग खरीदा जा सकता है। इसके अलावा रोड ट्रांसपोर्ट ऑफिस के पॉइंट ऑफ सेल से भी फास्टैग ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :- आज से रांची जाना हुआ महंगा, NH-75 पर स्थित माण्डर टोल प्लाजा का नया रेट चार्ट जारी

फास्टैग खरीदने के लिए कौन से डॉक्यूमेंट चाहिए?

फटग खरीदने के लिए ड्राइवर के लाइसेंस और वाहन के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की कॉपी की आवश्यकता होती है। बैंक केवाईसी के लिए पैन कार्ड और आधार कार्ड की कॉपी भी मांगते हैं।

फास्टैग को कैसे रिचार्ज करें?

जिस बैंक का फास्टैग है, उसकी वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन रिचार्ज कर सकते हैं। इसके अलावा UPI/डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड/NEFT/नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से भी रिचार्ज कर सकते हैं। अगर फास्टैग बैंक अकाउंट से लिंक है तो पैसा सीधे अकाउंट से कट जाता है।

इसे भी पढ़ें :- मेदिनीनगर से रांची जाने में अब देना होगा ज्यादा टैक्स, NHAI ने टोल टैक्स में की बढ़ोत्तरी

फास्टैग की कीमत?

NPCI ने फास्टैग की कीमत 100 रुपए रखी है। इसके अलावा 200 रुपए की सिक्युरिटी डिपॉजिट भी देनी पड़ती है। हालांकि, बैंकों से फास्टैग खरीदने की कीमत अलग हो सकती है।

क्या फास्टैग जरूरी है?

टोल प्लाजा को पार करने के लिए फास्टैग अनिवार्य है।

बिना फास्टैग क्या होगा?

यदि आप बिना फास्टैग टोल प्लाजा पर पहुंच जाते हैं तो भारी जुर्माना देना पद सकता हैं। यह टोल टैक्स की कीमत से दोगुना हो सकता है।

इसे भी पढ़ें :- लोहरदगा : रामनवमी जुलूस पर हुए पथराव के बाद अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा बंद, 144 लागू

क्या होगा अगर फास्टैग वॉलेट में पर्याप्त बैलेंस ना हो ?

यदि आपके फास्टैग वॉलेट में पर्याप्त बैलेंस नहीं हैं तो भी आप टोल प्लाजा को पार कर सकते हैं। इस स्थिति में सिक्युरिटी डिपॉजिट से टोल टैक्स काटा जाएगा। अगले रिचार्ज करने पर इसकी भरपाई कर ली जाएगी। टोल प्लाजा पर होने वाली बकझक से बचने के लिए NHAI ने यह सुविधा लागू की है। हालांकि, यह सुविधा केवल कार, जीप, वैन जैसे छोटे वाहनों के लिए उपलब्ध हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

mandar toll plaza fastag