Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Thursday, April 18, 2024
झारखंड

झारखण्ड : केंद्रीय विद्यालय के प्रमोट हुए छात्रों को फिर से देनी होगी परीक्षा

झारखण्ड केंद्रीय विद्यालय

झारखंड के 42 केंद्रीय विद्यालयों में क्लास 2 से 9वीं तक के जिन बच्चों को कोरोना काल में प्रमोट किया गया था, उन्हें गर्मी की छुट्टियों से पहले परीक्षा देनी होगी। यह परीक्षा 40 अंकों की होगी। कोरोना काल में इससे पहले बच्चों को 10 दिनों का ब्रिज कोर्स कराया जाएगा।

इधर, परीक्षा को लेकर छात्राें और उनके अभिभावकों में भ्रम की स्थिति है कि अगर वे फेल हो गए तो उन्हें फिर से निचली कक्षा में ही पढ़ाई करनी होगी। मामले को लेकर भास्कर ने केंद्रीय विद्यालयों के प्राचार्य से बात की गई।

केंद्रीय विद्यालय चंद्रपुरा के प्राचार्य कमलेश भुइयां ने कहा कि कोरोना काल में जिन बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई हुई थी। उसमें जो लर्निंग गैप हुआ था, उसे दूर करने के उद्देश्य से 10 दिनों का ब्रिज कोर्स कराया जा रहा है।

अगर परीक्षा में पास नहीं होते हैं तो भी उन्हें जिस क्लास में प्रमोट किया गया है, वे उसी में रहेंगे। ब्रिज कोर्स के बाद 40 अंकों का लर्नर एचीवमेंट टेस्ट लिया जाएगा, ताकि कोरोना काल में जो पढ़ाई का लॉस हुआ है, उसे पूरा किया जा सके।

42 केंद्रीय विद्यालयों में 9वीं तक 34764 बच्चे

झारखंड में कुल 42 केंद्रीय विद्यालय हैं। जिसमें क्लास दो से 9 तक के बच्चों की कुल संख्या 34,764 है। राज्य में स्थित केन्द्रीय विद्यालयों में चक्रधरपुर, मेघाहाताबुरू, एचईसी धुर्वा, हिनू (रांची), दीपाटोली (रांची), नामकुम (रांची), सुरदा(जमशेदपुर), केंद्रीय विद्यालय टाटानगर, केंद्रीय विद्यालय नंबर 1 बोकारो, केंद्रीय विद्यालय नंबर 3 बोकारो, केंद्रीय विद्यालय पश्चिमी सिंहभूम, केंद्रीय विद्यालय मैथन, केंद्रीय विद्यालय भेंडरा गोमो, केंद्रीय विद्यालय रामगढ़, केंद्रीय विद्यालय पतरातू, केंद्रीय विद्यालय हजारीबाग, केंद्रीय विद्यालय कोडरमा, केंद्रीय विद्यालय देवघर, पलामू, लातेहार, गिरिडीह, गुमला, लोहरदगा, मुरी, चंद्रपुरा खूंटी, चाईबासा, गढ़वा, घाटशिला, बीटीपीएस बोकारो, कतरास, भुरकुंडा आदि हैं।

फेल होने पर फिर ब्रिज काेर्स से कराई जाएगी तैयारी

सवाल – विद्यार्थी अगली कक्षा में प्रमोट हो गए तो पिछली कक्षा की परीक्षा क्यों? जवाब – कोरोना काल में पढ़ाई का लॉस हुआ है, उसे दूर करना मुख्य उद्देश्य है।

सवाल – मैं आठवीं में प्रमोट हुआ हूं, परीक्षा में फेल हो गया तो क्या होगा? जवाब – कुछ नहीं, आप उसी क्लास में रहेंगे। आपको फिर तैयारी करनी होगी।

सवाल – परीक्षा की मार्किंग कैसे होगी? जवाब – बच्चों को नंबर मिलेगा। मार्किंग की जाएगी। यह सिर्फ बच्चों की पढ़ाई की कमी को दूर करने का प्रयास है।

इसे भी पढ़ें :- शिक्षा व्यवस्था में सुधार करें, नहीं तो स्कूलों को निजी हाथों में सौंप दिया जाएगा : शिक्षा मंत्री

सवाल – इसकी मार्किंग से मेरी मौजूदा कक्षा या पढ़ाई पर असर तो नहीं पड़ेगा? जवाब -नहीं, कोई असर नहीं पड़ेगा।

सवाल – क्या इसका रिजल्ट भी मिलेगा? जवाब – हां, रिजल्ट मिलेगा, इससे बच्चे उत्साहित होंगे। उनका कॉन्फिडेंस बढ़ेगा।

सवाल – जो छठी कक्षा से सातवीं में गए हैं, उन्हें क्या दोबारा रिजल्ट मिलेगा? जवाब – बच्चों को उनके रिजल्ट की जानकारी दी जाएगी। – जैसा कि केंद्रीय विद्यालय चंद्रपुरा के प्राचार्य कमलेश भुइयां ने भास्कर काे बताया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

झारखण्ड केंद्रीय विद्यालय