Breaking :
||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा||चतरा के पांच अफीम तस्कर हजारीबाग में गिरफ्तार||झारखंड में 4 IPS अफसरों का तबादला, लातेहार SP के पद पर बने रहेंगे अंजनी अंजन, 27 IPS अधिकारियों का मूवमेंट ऑडर जारी||बालूमाथ के चोरझरिया घाटी में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट
Friday, March 1, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडपलामू

झारखंड: 10 जून को आएगा मानसून, मरुस्थल बनने की ओर बढ़ रहा पलामू प्रमंडल

रांची : झारखंड में इस बार लोग जल्द ही मानसून का लुत्फ उठा सकेंगे. रांची मौसम विभाग के अनुसार, राज्य में मानसून 10 जून के आसपास पहुंचेगा। मौसम विज्ञान केंद्र, रांची के प्रभारी निदेशक अभिषेक आनंद ने बताया है कि आने वाले 10 जून के आसपास मानसून पूरे राज्य में प्रवेश करेगा।

हालांकि इस बार मई से ही राजधानी समेत राज्य के सभी हिस्सों में प्री-मानसून बारिश शुरू हो गई है। इससे लोगों को मई माह में भीषण गर्मी से काफी हद तक राहत मिली।

मौसम विज्ञान केंद्र रांची के मुताबिक पिछले साल की तरह इस बार भी मानसूनी बारिश अच्छी रहने की संभावना है. विभाग के मुताबिक 8 जून से पूरे प्रदेश में मानसून का असर दिखेगा। वहीं, 10 जून के बाद राज्य के सभी हिस्सों में मानसूनी बादल छाए रहेंगे।

पलामू की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस साल मानसून से किसानों को भी राहत मिलेगी। माना जा रहा है कि इस बार किसानों की फसलों के लिए काफी अच्छी बारिश होगी। उम्मीद है कि उपरोक्त औसत वर्षा के कारण इस बार उन्हें धान की बुवाई और बाद में सिंचाई करने में कोई समस्या नहीं होगी।

पलामू की जलवायु में तेजी से बदलाव

इधर, पलामू जिले के मौसम में तेजी से बदलाव आ रही है। जो आने वाले 10 सालों में भयावह रूप ले सकता है। दरअसल, जिले के घनी आबादी वाले वन क्षेत्रों में पेड़ों के काटने से जलवायु परिवर्तन पर खासा असर देखने को मिल रहा है।

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

देश के जाने माने पर्यावरणविद्, वन्यजीव विशेषज्ञ सह संस्थापक डॉ. दयाशंकर श्रीवास्तव ने प्रदेश के पलामू जिले के भविष्य की तस्वीर पेश की है, जो काफी भयावह है। उन्होंने कहा कि राज्य के कुछ जिले जैसे पलामू, गढ़वा, लातेहार यानी पूरा पलामू प्रमंडल मरुस्थल बनने की ओर बढ़ रहा है। यदि भविष्य में वन क्षेत्रों से पेड़ों की कटाई नहीं रुकी तो स्थिति विकट हो जाएगी।

advt