Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

झारखंड: 10 जून को आएगा मानसून, मरुस्थल बनने की ओर बढ़ रहा पलामू प्रमंडल

रांची : झारखंड में इस बार लोग जल्द ही मानसून का लुत्फ उठा सकेंगे. रांची मौसम विभाग के अनुसार, राज्य में मानसून 10 जून के आसपास पहुंचेगा। मौसम विज्ञान केंद्र, रांची के प्रभारी निदेशक अभिषेक आनंद ने बताया है कि आने वाले 10 जून के आसपास मानसून पूरे राज्य में प्रवेश करेगा।

हालांकि इस बार मई से ही राजधानी समेत राज्य के सभी हिस्सों में प्री-मानसून बारिश शुरू हो गई है। इससे लोगों को मई माह में भीषण गर्मी से काफी हद तक राहत मिली।

मौसम विज्ञान केंद्र रांची के मुताबिक पिछले साल की तरह इस बार भी मानसूनी बारिश अच्छी रहने की संभावना है. विभाग के मुताबिक 8 जून से पूरे प्रदेश में मानसून का असर दिखेगा। वहीं, 10 जून के बाद राज्य के सभी हिस्सों में मानसूनी बादल छाए रहेंगे।

पलामू की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस साल मानसून से किसानों को भी राहत मिलेगी। माना जा रहा है कि इस बार किसानों की फसलों के लिए काफी अच्छी बारिश होगी। उम्मीद है कि उपरोक्त औसत वर्षा के कारण इस बार उन्हें धान की बुवाई और बाद में सिंचाई करने में कोई समस्या नहीं होगी।

पलामू की जलवायु में तेजी से बदलाव

इधर, पलामू जिले के मौसम में तेजी से बदलाव आ रही है। जो आने वाले 10 सालों में भयावह रूप ले सकता है। दरअसल, जिले के घनी आबादी वाले वन क्षेत्रों में पेड़ों के काटने से जलवायु परिवर्तन पर खासा असर देखने को मिल रहा है।

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

देश के जाने माने पर्यावरणविद्, वन्यजीव विशेषज्ञ सह संस्थापक डॉ. दयाशंकर श्रीवास्तव ने प्रदेश के पलामू जिले के भविष्य की तस्वीर पेश की है, जो काफी भयावह है। उन्होंने कहा कि राज्य के कुछ जिले जैसे पलामू, गढ़वा, लातेहार यानी पूरा पलामू प्रमंडल मरुस्थल बनने की ओर बढ़ रहा है। यदि भविष्य में वन क्षेत्रों से पेड़ों की कटाई नहीं रुकी तो स्थिति विकट हो जाएगी।

advt