Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
झारखंड

झारखंड: हाई कोर्ट ने दिया राष्ट्रीय खेल घोटाला मामले में सीबीआई जांच का आदेश

रांची : राष्ट्रीय खेल घोटाला मामले में सीबीआई जांच को लेकर दायर याचिका पर सोमवार को झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डॉ रवि रंजन और न्यायमूर्ति एसएन प्रसाद की अदालत ने सुनवाई की।

सुनवाई के बाद कोर्ट ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी. कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार सीबीआई जांच में सहयोग करेगी. कोर्ट ने सीबीआई को यह भी जांच करने का निर्देश दिया है कि एसीबी के किन अधिकारियों ने मामले की जांच में देरी की है।

अदालत ने यह भी कहा कि राज्य सरकार सीबीआई को संसाधन और फाइलें मुहैया कराएगी। यदि राज्य सरकार की ओर से कोई कमी होती है, तो सीबीआई उच्च न्यायालय को सूचित करेगी। इसके बाद कोर्ट इस पर आदेश देगा।

इसे भी पढ़ें :- झारखंड में शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता साफ, हाईकोर्ट ने दिया आदेश

34वें राष्ट्रीय खेलों के दौरान हुआ यह घोटाला 28.34 करोड़ रुपये का है। इसमें जरूरत से ज्यादा खेल सामग्री खरीदी गई। झारखंड पुलिस के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले में सर्विलांस थाना संख्या 49/2010 दर्ज कर जांच शुरू की थी। इसमें आरके आनंद, बंधु तिर्की समेत कई आरोपी थे।

इसे भी पढ़ें :- कुख्यात मानव तस्कर महिला ने किया सरेंडर, एक लाख था इनाम

आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय खेलों से संबंधित तैयारियों, समारोह के आयोजन और सामान की खरीद में अनियमितता की पुष्टि हुई थी। इस मामले में प्राथमिक आरोपी सुविमल मुखोपाध्याय, एचएल दास, प्रेम कुमार चौधरी, शुकदेव सुबोध गांधी और अजीत जॉयस लाकड़ा के खिलाफ अभियोजन पक्ष के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने के लिए संबंधित सक्षम प्राधिकारियों से अभियोजन स्वीकृति मांगी गई है।

एसीबी ने इस मामले की जांच जारी रखते हुए 09 जनवरी 2015 को प्राथमिकी के आरोपी प्रकाश चंद्र मिश्रा और सैयद मतलूब हाशमी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी। वहीं, प्राथमिकी के आरोपी मधुकांत पाठक के खिलाफ 16 अप्रैल 2018 को चार्जशीट दाखिल की गई थी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें