Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

झारखंड: सरकारी स्कूल के शिक्षकों को टैब देगी सरकार, बच्चों को मिलेगी तकनीकी शिक्षा

रांची : सरकार ने सरकारी प्राथमिक विद्यालयों के 28945 शिक्षकों को टैब देने की घोषणा की है। यह टैब शिक्षक संसाधन पैकेज से दिया जाएगा। झारखंड स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने स्कूलों की पहचान कर ली है। टैब को खरीदने में करीब 28 करोड़ रुपये खर्च होंगे। जिसमें 40 प्रतिशत राशि का भुगतान राज्य सरकार करेगी। वहीं, 60 फीसदी खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी।

गौरतलब है कि इससे पहले भी सरकारी स्कूल के शिक्षकों को टैब दिया जाता था। पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में शिक्षकों को टैब दिया गया था। जिससे शिक्षक अपनी दैनिक उपस्थिति बनाकर संबंधित कार्य करते थे। इस टैब पर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास का एक वीडियो आता था। शिक्षकों को वीडियो के माध्यम से संदेश दिया गया। वर्तमान सरकार द्वारा इस वीडियो को हटाने के कई प्रयास किए गए। लेकिन वीडियो डिलीट नहीं हो पा रहा है। हालांकि इसे हटाने में काफी खर्चा आ रहा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बता दें कि कोरोना काल में निजी स्कूलों के छात्र पढ़ते रहे। लेकिन सरकारी स्कूली बच्चों की पढ़ाई बाधित रही। ऐसे में सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को सरकार द्वारा टैब दिए जाने से बच्चों की पढ़ाई में कोई बाधा नहीं आएगी. जिसके जरिए बच्चों को मल्टी मीडिया और टेक्नोलॉजी की जानकारी दी जाएगी। जिससे वे प्रौद्योगिकी से संबंधित विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग ले सकेंगे।