Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

भोजपुरी, मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के फैसले के खिलाफ 6 मार्च को झारखंड बंद

Jharkhand Bandh 6 March

रांची : घोषित कार्यक्रम के तहत हरमू विद्यानगर (रांची) में 6 मार्च को अखिल भारतीय भोजपुरी मगही मैथिली अंगिका मंच के बैनर तले 28 संगठनों की बैठक हुई. इसमें हेमंत सरकार के बोकारो, धनबाद से भोजपुरी, मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के फैसले का विरोध किया गया था। यह भी कहा गया कि 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति की मांग निराधार है। मंच की अध्यक्षता करते हुए कैलाश यादव ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में उर्दू की तरह भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका और हिंदी को भी क्षेत्रीय भाषाओं में शामिल किया जाए । राज्य में भाषाई विवाद और 1932 के खतियान जैसे विषय निश्चित रूप से हेमंत सरकार द्वारा प्रायोजित हैं।

तीसरी, चौथी पीढ़ी के बिहारियों और झारखंड में रहने वाले अन्य लोगों को जानबूझकर भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका भाषाओं के अधीन किया गया और शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो द्वारा घुसपैठियों, अतिक्रमणकारियों और बाहरी लोगों द्वारा लगातार व्यक्तिगत हमलों का शिकार होना पड़ा। यह लोकतांत्रिक व्यवस्था के प्रतिकूल है। अब सभी चौबीस जिलों में दूसरी राजभाषा, उर्दू की तर्ज पर क्षेत्रीय भाषा में भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका और हिंदी को शामिल करने की मांग की जाएगी । 1932 की खतियान आधारित स्थानीय नीति की आधारहीन और असंवैधानिक मांग के विरोध में 6 मार्च को संपूर्ण झारखंड बंद का ऐलान किया गया है । इस दौरान कई विषयों पर प्रस्ताव भी पारित किए गए।

जयहिंद पार्टी के बबन चौबे ने कहा कि हेमंत सरकार के अपने फैसले को निरस्त नहीं करने तक पूरे राज्य में चरणबद्ध तरीके से जिला स्तर पर विरोध सभा आयोजित की जाएगी। जेडीयू नेता उपेंद्रनारायण सिंह ने कहा कि अगर हेमंत सरकार 6 मार्च को झारखंड बंद की घोषणा से पहले भोजपुरी मगही को हटाने का फैसला वापस लेती है तो झारखंड बंद स्थगित कर दिया जाएगा। नहीं तो आंदोलन तेज कर दिया जाएगा।

Jharkhand Bandh 6 March


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *