Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

मंत्री मिथिलेश ठाकुर पर कार्रवाई के निर्देश, जानिए वजह

हेमंत सरकार के मंत्री मिथिलेश ठाकुर राज्य के तीसरे विधायक हैं जिनके खिलाफ कार्रवाई होने जा रही है. पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर की सदस्यता का मामला भारत निर्वाचन आयोग पहुंचा. भारत निर्वाचन आयोग ने राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से इस पर नियमानुसार कार्रवाई करने को कहा है. इसके साथ ही राज्य निर्वाचन आयोग ने गढ़वा के उपायुक्त को कार्रवाई का निर्देश दे दिया है.

मंत्री मिथिलेश ठाकुर के खिलाफ विधानसभा चुनाव के समय ठेका कंपनी संचालित किए जाने का आरोप है. यह लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा नौ ए का उल्लंघन है. यही मंत्री ठाकुर के खिलाफ शिकायत है. राज्य निर्वाचन आयोग ने डीसी को कार्रवाई को निर्देश देने के साथ ही कार्रवाई की जानकारी देने को भी कहा है. ताकि भारत निर्वाचन आयोग को कार्रवाई से अवगत कराया जा सके.

इस मामले के शिकायतकर्ता सुनील महतो हैं. इन्होंने शिकायत में बताया है कि विधानसभा चुनाव के दौरान मिथिलेश ठाकुर द्वारा भरे गए फार्म- 26 में इसका जिक्र है कि वे चाईबासा के सत्यम बिल्डर्स के पार्टनर हैं. यह कंपनी सरकारी ठेका लेने का काम करती है. विधानसभा चुनाव के दौरान उनकी राज्य सरकार के साथ की गई कई संविदाएं अस्तित्व में थीं. सुनील महतो ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत उनकी सदस्यता रद करने की मांग की है.

इधर, कांके के विधायक समरीलाल भी कार्रवाई की दायरे में हैं. राज्यपाल रमेश बैस कांके विधायक समरी लाल की सदस्यता खत्म करने के मामले में भी भारत निर्वाचन आयोग से मंतव्य लेंगे. समरीलाल गलत जाति प्रमाण पत्र के मामले में कार्रवाई के दायरे में है. इससे अधिक आय से अधिक संपत्ति के मामले में विधायक बंधु तिर्की अपनी सदस्यता गंवा चुके हैं. इस तरह मंत्री मिथिलेश ठाकुर राज्य के तीसरे विधायक हैं जो कार्रवाई के दायरे में आ चुके हैं.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें