Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
झारखंडरांची

गर्मी में भीषण जल संकट की आशंका को देखते हुए राज्य सरकार अलर्ट मोड पर, एक सप्ताह में जल संकट दूर करने के निर्देश

रांची : नगर विकास सचिव विनय चौबे ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से राज्य के सभी शहरी निकायों को नगर आयुक्तों और पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि गर्मी में भीषण जल संकट की संभावना को देखते हुए राज्य सरकार अलर्ट मोड पर है। सभी शहरी निकायों को एक सप्ताह में जल संकट को दूर करने और लोगों को पर्याप्त पानी मुहैया कराने का एक्शन प्लान बनाने का निर्देश दिया गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि किसी भी निकाय में पानी की कमी न हो पदाधिकारी यह सुनिश्चित करें। पानी की किल्लत दूर करने के लिए जो भी व्यवस्था करनी हो, वह करें। एक सप्ताह में एक्शन प्लान बना कर उस पर काम शुरू कर दें। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

नगर विकास सचिव ने कहा कि पदाधिकारी एक सप्ताह में जलापूर्ति के लिए सभी निकाय और वार्डवार एक्शन प्लान तैयार करें। जिन शहरों में पाइप लाइन वाटर सप्लाई स्कीम पूरी हो गयी है, वहां अधिक से अधिक घरों में वाटर कनेक्शन दिया जाये।

उन्होंने कहा कि सभी निकायों में खराब और बंद पड़े चापानलों को अविलंब दुरुस्त किया जाये, जहां पाइपलाइन से जलापूर्ति संभव नहीं है, वहां टैंकर से जलापूर्ति सुनिश्चित हो। शहरों में बंद पड़े एचवाईडीटी बोरिंग को भी दुरुस्त करायें। संसाधनों को दुरुस्त करने के लिए टीमों की संख्या बढ़ायें। सभी नगर निकाय एक टॉल फ्री नंबर जारी करे। सचिव ने सभी नगर निकायों में एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति का भी निर्देश दिया, जो जलापूर्ति को लेकर जवाबदेह होगा।

बैठक के दौरान कई नगर निकायों के पदाधिकारियों ने बताया कि उनके पास संसाधनों की कमी है। निकायों की ओर से टैंकर, हैंडपंप और नये बोरिंग की आवश्यकता बतायी गयी, जिस पर राज्य शहरी विकास अभिकरण (सूडा) के निदेशक ने कहा कि सभी निकाय टेंडर निकाल कर जरूरी संसाधनों की खरीद कर लें। बैठक में सचिव ने प्रधानमंत्री आवास योजना की भी समीक्षा की।

Jharkhand News Today