Breaking :
||चतरा समेत इन चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को विरोधियों से अधिक अपनों से खतरा||झारखंड: पहले चरण के चुनाव में पलामू समेत इन चार लोकसभा सीटों पर युवा मतदाता निभायेंगे निर्णायक भूमिका||आय से अधिक संपत्ति मामले में निलंबित चीफ इंजीनियर वीरेंद्र राम के पिता और पत्नी के खिलाफ कुर्की वारंट का इश्तेहार जारी||पलामू लोकसभा: शीर्ष माओवादी कमांडर रहे कामेश्वर बैठा समेत तीन उम्मीदवारों ने किया नामांकन||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये
Wednesday, April 24, 2024
झारखंडरांची

छठी कक्षा में चयनित छात्रों का नामांकन नहीं लेने पर हाईकोर्ट ने नेतरहाट विद्यालय को भेजा नोटिस

रांची : नेतरहाट आवासीय विद्यालय में छठी कक्षा में चयनित बच्चों का स्वास्थ्य जांच के बाद नामांकन नहीं होने के मामले में दायर याचिका पर शनिवार को झारखंड हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति राजेश शंकर की खंडपीठ ने सुनवाई की। याचिकाकर्ता की याचिका पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने नेतरहाट आवासीय विद्यालय को नोटिस जारी किया है इसके साथ ही मामले की सुनवाई 5 जनवरी 2023 को तय की गयी है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता शुभाशीष रसिक सोरेन पेश हुए। मामले को लेकर सुमित राय समेत तीन अन्य ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।

ज्ञात हो कि याचिकाकर्ता का नेतरहाट आवासीय विद्यालय में कक्षा छठी में नामांकन के लिए चयन किया गया है। नामांकन से पूर्व इन बच्चों का रांची सदर अस्पताल स्थित नेतरहाट आवासीय विद्यालय द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया, जिसमें चिकित्सकों ने बताया कि इन बच्चों की उम्र 13 से 14 वर्ष प्रतीत हो रही है।

इसके आधार पर स्कूल ने इन बच्चों को दाखिला देने से मना कर दिया जबकि सरकार द्वारा जारी जन्म प्रमाण पत्र में इन बच्चों की उम्र 12 साल से कम बतायी गयी है। याचिकाकर्ता बच्चों ने चयन होने के बाद स्कूल द्वारा नामांकन से इंकार करने को हाई कोर्ट में चुनौती दी है।