Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

स्वास्थ्य निदेशालय का लिपिक रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी के मामले में ले रहा था रिश्वत

Health directorate clerk bribe

रांची : स्वास्थ्य निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बारला को राँची एसीबी की टीम ने बुधवार को रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। एसीबी की टीम ने कृष्णकांत बारला को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते मौके पर पकड़ा।

बता दें कि राँची निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बरला गारू प्रखंड के बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेन्द्र के एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार से रिश्वत ले रहे थे। जहाँ उन्हें रंगे हाथ गिरफ्तार कर एसीबी की टीम अपने साथ ले गयी है।

गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी संजीव दुबे और संतोष कुमार पर गारू प्रखंड अंतर्गत कारवाई के ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग के कार्य मे लापरवाही और पैसा उगाही करने की शिकायत कर कारवाई की मांग की थी। हालांकि यह पूरा मामला शुरू से ही सवालों के घेरे में रहा चुकी संतोष कुमार बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेंद्र में कार्यरत है और लापरवाही की शिकायत कारवाई गांव के ग्रामीणों ने की थी।

बहरहाल स्वास्थ्य विभाग के कार्यों में लापरवाही को लेकर विगत दिनों पूर्व रांची निदेशालय ने बारेसाढ़ उपस्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार एवं गारू रेफरल अस्पताल में पदस्थापित लेखा प्रबंधक संजीव दुबे के नाम पत्र जारी कर स्पस्टीकरण की मांग की थी।

इस मामले को हल्का और आरोप को निराधार करने के एवज में स्वास्थ्य निदेशालय के लिपिक कृष्ण कांत बारला ने संतोष कुमार से पैसे की मांग की थी। इसकी शिकायत संतोष कुमार ने एसीबी की टीम से की। मामले की जांच में जुटी एसीबी की टीम ने रिश्वत के पैसे के साथ कृष्ण कांत बारला को गिरफ्तार कर लिया है।

Health directorate clerk bribe


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *