Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

विधायक सरयू रॉय के खिलाफ एफआईआर दर्ज

सरयू रॉय के खिलाफ एफआईआर

रांची: विधायक सरयू राय के ऊपर आईपीसी की धारा 409/379/411/120B &420 के तहत डोरंडा थाने में केस दर्ज हो गया है. ये केस मंत्री बन्ना गुप्ता के ऊपर कोविड प्रोत्साहन राशि में गड़बड़ी करने के आरोप लगाने के बाद दर्ज किया गया है. इससे पहले मंत्री बन्ना गुप्ता ने इस मामले पर सरयू राय को नोटिस भेज माफी मांगने को कहा था, ऐसा नहीं करने पर लीगल एक्शन की चेतावनी दी गयी थी लेकिन सरयू राय ने ऐसा करने से इनकार कर दिया था.

तब उन्होंने चुनौती देते हुए कहा था कि नोटिस इस लायक नहीं है कि इसका जवाब दिया जाये. नोटिस की मियाद खत्म होते ही मंत्री जी मुझ पर मुकदमा करने का साहस करें. मैं मुकदमा की प्रतीक्षा करूंगा. अधिवक्ता संजय मिश्रा ने भी सरयू राय को नोटिस जारी करते हुए सात बिंदुओं पर जवाब देने को कहा था. इसमें पूछा गया था कि करोड़ों रुपये पैसे के भुगतान का जो आरोप लगाया गया है, उसका साक्ष्य प्रस्तुत किया करें.

सरयू राय ने उपलब्ध कराया था दस्तावेज

सरयू राय ने भी सभी दस्तावेज उपलब्ध कराते हुए आरोप लगाया था कि 59 पदाधिकारी और कर्मचारी में से 53 का भुगतान कर दिया गया था लेकिन मंत्री सहित छह लोगों का भुगतान किसी कारण से नहीं हो पाया था. प्रोत्साहन राशि के लिए मंत्री ने भी अपना नाम विभाग को प्रस्तावित किया था.

स्वास्थ्य विभाग ने भी प्रेस रिलीज जारी कर स्थिति किया था स्पष्ट

स्वास्थ्य विभाग ने भी प्रेस रिलीज जारी कर स्पष्ट किया था कि इस मामले में कोई वित्तीय अनियमितता नहीं हुई है और पूरे मामले में नियमानुसार कार्रवाई की गई है. मंत्री बन्ना गुप्ता ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इससे संबंधित सबूत मांगी थी.

इसे भी पढ़ें :- मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन की कुर्सी पर खतरा! चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

सरयू रॉय के खिलाफ एफआईआर