Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
झारखंड

झारखंड पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत, नेतरहाट फील्ड फायरिंग कार्यक्रम में लेंगे हिस्सा

Rakesh Tikait Netarhat Jharkhand

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत और उनके सचिव नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज के खिलाफ जन संघर्ष समिति लातेहार, गुमला के 25 साल लंबे आंदोलन की बरसी में शामिल होने आज रांची पहुंचे।

वीर बिरसा मुंडा हवाई अड्डे पर जन संघर्ष समिति के केंद्रीय सचिव लातेहार गुमला, जेरोम जेराल्ड कुजूर और आदिवासी सलाहकार परिषद टीएसी के पूर्व सदस्य रतन तिर्की ने गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया।

हवाई अड्डे से राकेश टिकैत कामिल बुल्के पथ स्थित सामाजिक विकास केंद्र एसडीसी गए जहां जन संघर्ष समिति की महिलाओं ने आदिवासी परंपरा के अनुसार हाथ धोकर उनका स्वागत किया।

आपको बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत कल लातेहार नेतरहाट टुटुआपानी जोकीपोखर जाएंगे। जहां नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज के खिलाफ 25 साल से चल रहे आंदोलन की बरसी पर जुटे हजारों आदिवासियों और मूल निवासियों को संबोधित करेंगे।

एयरपोर्ट से रिसीव करते हुए कार में उनसे बात करते हुए उन्होंने कहा कि झारखंड उनका पहला दौरा है और यहां का मौसम भी अच्छा है। श्री टिकैत ने कहा कि झारखंड में खनिज होने के बावजूद यहां के आदिवासी गरीब कैसे हैं?

उन्होंने कहा कि किसानों के हितों की रक्षा सबसे अहम मुद्दा है। इसके बाद नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज के खिलाफ आंदोलनकारियों के सचिव जेरोम जेराल्ड कुजूर ने श्री टिकैत को आंदोलन की पृष्ठभूमि और इतिहास से अवगत कराया।

एसडीसी में आयोजित एक छोटी सी बैठक में श्री टिकैत खान ने खनिजों के विस्थापन पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि झारखंड में पिछड़े दलितों के किसानों के अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करना केंद्र और राज्य सरकारों की जिम्मेदारी है।

कल श्री टिकैत लातेहार के नेतरहाट टूटुआपानी आंदोलनकारियों द्वारा 22/23 मार्च को लोहरदगा घाघरा होते हुए सड़क मार्ग से दो दिवसीय कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। रात्रि विश्राम नेतरहाट में ही करेंगे।

Rakesh Tikait Netarhat Jharkhand


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *