Breaking :
||स्पेनिश महिला पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को भेजा गया जेल, पीड़ित दंपति का कोर्ट में बयान दर्ज||लातेहार: मनिका में संदेहास्पद स्थिति में पेड़ से लटका मिला युवक का शव||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार
Sunday, March 3, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

ईडी रेड में अब तक 150 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूजा सिंघल को हो सकती है 10 वर्ष तक की सजा

ईडी रेड झारखण्ड

ईडी रेड झारखण्ड :- प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने खान सचिव पूजा सिंघल और उनसे जुड़े लोगों के कुल 25 ठिकानों पर छापेमारी की है. यह छापेमारी करीब 16 घंटे तक चली। इस कार्रवाई में रांची के हनुमान नगर स्थित सिंघल की सीए सुमन सिंह के आवास से 19.31 करोड़ रुपये नकद मिले। कार्रवाई के दौरान करीब 150 करोड़ की संपत्ति के दस्तावेज भी मिले हैं।

हो सकती है 10 वर्ष तक की सजा

वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल और उनके करीबी सहयोगियों के लिए आने वाले दिन मुश्किल लग रहे हैं। ईडी सूत्रों के मुताबिक पूजा सिंघल के सभी ठिकानों पर छापेमारी कर अधिकारियों ने बड़े पैमाने पर संपत्ति के दस्तावेज और नकदी बरामद की है। छापेमारी की प्रक्रिया खत्म होने के बाद ईडी अपने स्तर से सभी दस्तावेजों की जांच करेगा। इसके बाद पूजा सिंघल और अन्य को पूछताछ के लिए समन भेजा जाएगा। ईडी उनका बयान दर्ज करेगी। यदि जांच के दौरान यह साबित होता है कि उसने पूरी संपत्ति अवैध रूप से अर्जित की है तो उसे कुर्क करने की दिशा में कार्रवाई की जाएगी।

राज्य में ईडी से जुड़े अन्य मामलों में ऐसा हुआ है। ईडी ट्रायल प्रक्रिया शुरू करने के लिए चार्जशीट तैयार करेगी। इसमें मनी लॉन्ड्रिंग के तहत कार्रवाई भी संभव है। ईडी के समक्ष बयान दर्ज कराना होगा। अगर आरोप साबित हो जाता है तो इस मामले में 10 साल तक की सजा हो सकती है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

ईडी रेड झारखण्ड