Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

ईडी रेड में अब तक 150 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूजा सिंघल को हो सकती है 10 वर्ष तक की सजा

ईडी रेड झारखण्ड

ईडी रेड झारखण्ड :- प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने खान सचिव पूजा सिंघल और उनसे जुड़े लोगों के कुल 25 ठिकानों पर छापेमारी की है. यह छापेमारी करीब 16 घंटे तक चली। इस कार्रवाई में रांची के हनुमान नगर स्थित सिंघल की सीए सुमन सिंह के आवास से 19.31 करोड़ रुपये नकद मिले। कार्रवाई के दौरान करीब 150 करोड़ की संपत्ति के दस्तावेज भी मिले हैं।

हो सकती है 10 वर्ष तक की सजा

वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल और उनके करीबी सहयोगियों के लिए आने वाले दिन मुश्किल लग रहे हैं। ईडी सूत्रों के मुताबिक पूजा सिंघल के सभी ठिकानों पर छापेमारी कर अधिकारियों ने बड़े पैमाने पर संपत्ति के दस्तावेज और नकदी बरामद की है। छापेमारी की प्रक्रिया खत्म होने के बाद ईडी अपने स्तर से सभी दस्तावेजों की जांच करेगा। इसके बाद पूजा सिंघल और अन्य को पूछताछ के लिए समन भेजा जाएगा। ईडी उनका बयान दर्ज करेगी। यदि जांच के दौरान यह साबित होता है कि उसने पूरी संपत्ति अवैध रूप से अर्जित की है तो उसे कुर्क करने की दिशा में कार्रवाई की जाएगी।

राज्य में ईडी से जुड़े अन्य मामलों में ऐसा हुआ है। ईडी ट्रायल प्रक्रिया शुरू करने के लिए चार्जशीट तैयार करेगी। इसमें मनी लॉन्ड्रिंग के तहत कार्रवाई भी संभव है। ईडी के समक्ष बयान दर्ज कराना होगा। अगर आरोप साबित हो जाता है तो इस मामले में 10 साल तक की सजा हो सकती है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

ईडी रेड झारखण्ड