Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

डॉक्टर्स डे पर विशेष: अपनी एक विफलता से आलोचनाओं का शिकार हो रहे डॉक्टर्स!

भारत में हर साल 1 जुलाई को डॉक्टर दिवस मनाया जाता है। डॉ बिधान चंद्र रॉय द्वारा दिए गए योगदान के लिए हम इस दिन उनके सम्मान के रूप में उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। वे चिकित्सक तथा स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्हें वर्ष 1961 में भारत रत्न से सम्मनित किया गया था।

जब तक आप बीमार या घायल नहीं हो जाते

चिकित्सक कितने महत्वपूर्ण, कीमती और आवश्यक सक्षम चिकित्सक हैं, यह हमें समझ नहीं आता है। ‘डॉक्टर्स डे’ मेहनती डॉक्टरों पर ध्यान केंद्रित करता है और हमें आग्रह करता है कि वे ऐसे ही हमारे लिए काम करें, उनकी करुणा, और दवा का असर हमारे स्वसत्य को ठीक करने में लगा रहे।

देश के अलग-अलग हिस्सों के अस्पतालों और क्लीनिकों में डॉक्टर दिवस पर लोग अपने डॉक्टरों और चिकित्सकों को श्रद्धांजलि देते है और उनकी कड़ी मेहनत, प्रतिबद्धता से एक बेहतर और स्वस्थ समाज विकसित करने के प्रयासों के लिए उन्हें याद भी किया जाता है।

हालांकि विभिन्न कारकों के कारण हाल के दिनों में डॉक्टर और एक रोगियों के बीच रिश्ते बिगड़ते नज़र आ रहे हैं। क्योंकि विभिन्न माध्यमों से चिकित्सा संबंधी जानकारी के बारे में ग़लत तरीके से गलत जानकारी दी जा रही हैं।

उनकी सफलता की दर को देखने के बजाय एक विफलता उन्हें आलोचना का शिकार बना रही है। जहां उनकी कड़ी मेहनत को नज़र अंदाज़ कर दिया जाता है।

इस प्रकार डॉक्टरों को अपनी जिम्मेदारियों को महसूस करने के अलावा लोगों को भी इसे पहचानना चाहिए और समझना चाहिए कि वे भी एक इंसान हैं बल्कि डॉक्टर लोगों के स्वास्थ्य की भलाई के लिए जो प्रयास करते हैं। उनके इस महान काम के लिए हमें उनकी सराहना करना चाहिए।

पिछले कुछ सालो में दुनिया में जब करोना जैसी बीमारी ने हड़कंप मचाया तब डॉक्टरों ने अपनी जान की परवाह न करते हुए समाज कल्याण में अपने आप को झोंक दिया। कई डॉक्टर इस बीमारी की चपेट में आकर अपनी जान तक गवा दी। कोरोना के भयावह माहौल में जहां लोग घर से नहीं निकलते थे वही डॉक्टर इस सदी के हीरो के रूप में वह हर कराएं और ना जाने से पढ़ो जाने बचाए।

चाहे वह ब्लड डोनेट कर आना हो या प्लाज्मा प्रोवाइड कर आना हो या वैक्सीन लेना हो शाम में डॉक्टर सबसे पहले आगे रहे यही कारण है कि डॉक्टर की एक विशिष्ट छवि हमारे समाज में उभर कर आए हैं और धरती के भगवान के रूप में लोग उन्हें मानते हैं।

लेख:
Dr Vikas kumar
Dept of Neurosurgery RIMS
, Ranchi