Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

झारखंड के पारा शिक्षकों के बीच मतभेद, एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा भंग

रांची : स्थायी एवं सेवा शर्त नियमों को लेकर चल रहे आंदोलन को गति देने के लिए विभिन्न पारा शिक्षकों की यूनियनों को मिलाकर गठित एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा को भंग कर दिया गया है।

मोर्चा के संयोजक विनोद बिहारी महतो ने झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद के निदेशक किरण कुमार पासी को लिखित जानकारी दी है। अब होने वाली बैठकों में उन्होंने विभिन्न समूहों के नाम पत्र जारी कर संबंधित यूनियनों के पदाधिकारियों को बुलाने का अनुरोध किया है।

इसके साथ ही महतो ने अपने पत्र में झारखंड राज्य सहयोगी शिक्षक संघ के अध्यक्ष विनोद तिवारी को बताते हुए उनके नाम से पत्र जारी करने का अनुरोध किया है। जबकि मोर्चे में शामिल इस संघ के अध्यक्ष ऋषिकेश पाठक थे। इसको लेकर विवाद हो सकता है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इधर, सामुदायिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विनोद बिहारी महतो ने कहा है कि यदि भविष्य में कोई आंदोलन शुरू हुआ तो मोर्चा बनाया जाएगा।