Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Friday, June 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

झारखंड के पारा शिक्षकों के बीच मतभेद, एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा भंग

रांची : स्थायी एवं सेवा शर्त नियमों को लेकर चल रहे आंदोलन को गति देने के लिए विभिन्न पारा शिक्षकों की यूनियनों को मिलाकर गठित एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा को भंग कर दिया गया है।

मोर्चा के संयोजक विनोद बिहारी महतो ने झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद के निदेशक किरण कुमार पासी को लिखित जानकारी दी है। अब होने वाली बैठकों में उन्होंने विभिन्न समूहों के नाम पत्र जारी कर संबंधित यूनियनों के पदाधिकारियों को बुलाने का अनुरोध किया है।

इसके साथ ही महतो ने अपने पत्र में झारखंड राज्य सहयोगी शिक्षक संघ के अध्यक्ष विनोद तिवारी को बताते हुए उनके नाम से पत्र जारी करने का अनुरोध किया है। जबकि मोर्चे में शामिल इस संघ के अध्यक्ष ऋषिकेश पाठक थे। इसको लेकर विवाद हो सकता है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इधर, सामुदायिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विनोद बिहारी महतो ने कहा है कि यदि भविष्य में कोई आंदोलन शुरू हुआ तो मोर्चा बनाया जाएगा।