Breaking :
||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर
Sunday, February 25, 2024
झारखंड

देवघर रोपवे हादसा : सभी फंसे हुए लोगों को निकाला गया, 3 की हुई मौत

देवघर रोपवे हादसा

देवघर जिला के मोहनपुर प्रखंड के त्रिकुट पहाड़ पर बने रोपवे में फंसे सभी फंसे लोगों को रेस्क्यू कर लिया गया है. रविवार की शाम चार बजे से फंसे लोगों को रेस्क्यू करने में दो दिनों का समय लग गया. सोमवार को करीब 32 लोगों को रेस्क्यू शाम तक किया गया था. अंधेरा होने की वजह से सोमवार को रेस्क्यू का काम रोक दिया गया था. मंगलवार को अहले सुबह से रेस्क्यू का काम फिर से शुरू किया गया था. एक बजे तक रेस्क्यू का काम पूरा कर लिया गया. सभी 13 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया.

हालांकि मंगलवार को रेस्क्यू के दौरान एक महिला (शोभा देवी)  हादसे का शिकार हो गयी. अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टर ने महिला को मृत घोषित कर दिया. रेस्क्यू का काम एयरफोर्स, इंडियन आर्मी, एनडीआरएफ, आईटीबीपी और जिला प्रशासन ने मिलकर किया. रेसक्यू करने में एयरफोर्स के एमआई-17 हेलिकॉप्टर की अहम भूमिका रही. कुल मिलाकर 45 लोगों को रेस्क्यू किया गया.

तीन की मौत, हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान

मामले को लेकर एक तरफ जहां सीएम हेमंत सोरेन ने उच्चस्तरीय जांच की बात की है. वहीं दूसरी तरफ हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने मामले पर स्वतः संज्ञान लिया है. चालीस घंटे तक फंसे सभी लोगों को रेस्क्यू के बाद जिला के सदर अस्पताल में भर्ती किया गया है. हालांकि हादसे के वक्त ही एक महिला की मौत हो गयी थी. वहीं रेस्क्यू के दौरान एक 48 वर्षीय शख्स राकेश मंडल की मौत हेलिकाप्टर से गिर जाने की वजह से हो गयी. आज फिर रेस्क्यू के दौरान एक महिला की मौत हो गई. मृतक के परिजनों को मुआवजे के लिए देवघर में लोगों ने सड़क जाम कर दिया है. जिसे प्रशासन हटाने की कोशिश कर रहा है.

क्या है मामला

बीते रविवार की शाम त्रिकूट रोपवे जैसे डाउन स्टेशन से चालू हुआ, तो पहाड़ की चोटी पर स्थित रोप-वे के यूटीपी स्टेशन का रॉलर अचानक टूट गया. इस कारण सबसे पहले ऊपर का एक ट्रॉली 40 फीट नीचे खाई में गिर गयी, जिसमें पांच लोग सवार थे. स्थानीय लोग व रोप-वे कर्मी ने मिलकर उस ट्रॉली में फंसे पांचों को बाहर निकाला. इस हादसे के दौरान रोप-वे की बाकी 23 ट्रॉली सात फीट नीचे अचानक लटक गयी. इसमें सबसे नीचे की दो ट्रॉली पत्थर से जोरदार ढंग से टकरा गयी.

इसे भी पढ़ें :- बालूमाथ: आपसी विवाद में पति ने पत्नी की धारदार हथियार से की हत्या, फरार

इन दोनों ट्रॉलियों में सवार सभी लोग बुरी तरह घायल हो गये. इस घटना के बाद नीचे ऑफिस में कार्यरत रोप-वे के प्रबंधन के सभी कर्मी व अधिकारी भाग निकले. सूचना मिलने के बाद डीसी मंजूनाथ भजंत्री, एसपी सुभाष चंद्र जाट व एनडीआरएफ की टीम पहुंची. करीब तीन घंटे के बाद मेंटेनेंस रोप-वे को चालू किया गया. खराबी के कारण शुरू में मेंटेनेंस रोप-वे का चालू नहीं किया जा सका था. इसके बाद बचाव-कार्य चालू किया जा सका. गौरतलब हो कि त्रिकुट पहाड़ की लंबाई 848 मीटर है. यह झारखंड का एकमात्र और देश का सबसे ऊंचा रोपवे है जमीन से खड़ी 90 डिग्री के कोण पर यह बना हुआ है. इस पर पहुंचने के लिए एक-एक ट्रॉली में 4-4 लोगों को बैठाकर ऊपर भेजा जाता है.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

देवघर रोपवे हादसा

देवघर रोपवे हादसा