Breaking :
||लातेहार: चेक बाउंस के मामले में महिला को एक वर्ष कारावास व हर्जाने की सजा||बिना हेलमेट गाड़ी चलाते पकड़े जाने पर नहीं चलेगी किसी की पैरवी, नियम सभी के लिए समान : एसपी||बिहार के तीन साइबर अपराधी लातेहार से गिरफ्तार, चला रहे थे ठगी की दूकान||कांग्रेस सांसद धीरज साहू के ठिकानों पर नोटों की गिनती अभी भी जारी, आंकड़ा 500 करोड़ के पार, देखिये कैसे हो रही है गिनती||सस्पेंस खत्म मोहन यादव होंगे मध्य प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री||ED ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को फिर पूछताछ के लिए बुलाया, छठी बार समन जारी||गरीबों को लूटकर पैसा जमा करने वालों से पाई-पाई वसूलने की मोदी की गारंटी : बाबूलाल मरांडी||पलामू में पुलिसकर्मियों को रौंदने का प्रयास, आरोपी चालक गिरफ्तार||‘धरती के धन कुबेर’ कांग्रेस सांसद धीरज प्रसाद साहू के ठिकानों से 3 सौ करोड़ रुपये बरामद, तीसरे दिन भी आईटी की छापेमारी, देखें वीडियो||तेतरियाखाड़ कोलियरी में PNMPL कंपनी के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे मजदूर नेता की तबियत बिगड़ी
Monday, December 11, 2023
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन की कुर्सी पर खतरा! चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

हेमंत सोरेन की कुर्सी पर खतरा

रांची: चुनाव आयोग ने झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन को नोटिस भेजकर स्पष्ट किया है कि उनके पक्ष में खदान का पट्टा जारी करने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों न की जाए। जो प्रथम दृष्टया जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 9ए का उल्लंघन करता है। धारा 9ए सरकारी अनुबंधों के लिए किसी भी सदन से अयोग्यता से संबंधित है। हालांकि चुनाव आयोग का नोटिस मिलने के बाद झारखंड में सियासी भूचाल आ गया है।

संभव है कि चुनाव आयोग इस मामले में हेमंत सोरेन को अयोग्य घोषित कर दे। जिसके आधार पर उनकी विधानसभा की सदस्यता छीन ली जाएगी। इसके चलते हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ सकती है। यह मामला पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने उठाया है।

इसे भी पढ़ें :- लातेहार: पलामू एक्सप्रेस के सामने कूदकर एक व्यक्ति ने दी जान

रघुवर ने राज्यपाल रमेश बैस को दस्तावेज उपलब्ध कराए थे, जिसमें आरोप लगाया गया था कि सीएम हेमंत ने उनके नाम पर खदान का पट्टा लिया था। राज्यपाल ने पूरे मामले की जांच के लिए एक दस्तावेज चुनाव आयोग को भेजा है। भारत के चुनाव आयोग ने दस्तावेज़ की सत्यता को प्रमाणित करने के लिए राज्य के मुख्य सचिव से एक रिपोर्ट मांगी थी। अब इस पूरे मामले में संभावित कार्रवाई की घड़ी नजदीक आती दिख रही है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

इससे पहले दिन में राज्यपाल रमेश बैस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी और लाभ के दोहरे पद के मामले में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ कार्रवाई के लिए पर्याप्त आधार की जानकारी दी थी. हालांकि, राजभवन को अभी तक इस मामले में चुनाव आयोग की राय नहीं मिली है। हालांकि इस मामले में राज्यपाल की ओर से सख्त कार्रवाई के संकेत दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें :- झामुमो नेता दिलशेर हत्याकांड में 7 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली : प्रतुल शाहदेव

हालांकि, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा कानूनी कार्रवाई के लिए नोटिस दिया गया है। चुनाव आयोग ने हेमंत सोरेन से अपना पक्ष रखने को कहा है। हेमंत से पूछा गया है कि खदान पट्टे के मामले में उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जाए। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 9ए का हवाला देते हुए चुनाव आयोग ने कहा है कि यह अधिनियम उन्हें अयोग्य घोषित कर सकता है।

हेमंत सोरेन की कुर्सी पर खतरा