Breaking :
||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा||चतरा के पांच अफीम तस्कर हजारीबाग में गिरफ्तार||झारखंड में 4 IPS अफसरों का तबादला, लातेहार SP के पद पर बने रहेंगे अंजनी अंजन, 27 IPS अधिकारियों का मूवमेंट ऑडर जारी||बालूमाथ के चोरझरिया घाटी में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट
Friday, March 1, 2024
झारखंडरांची

झारखंड में 7 जनवरी से शुरू होगी लातेहार समेत 12 जिलों में RT-PCR लैब के साथ कोरोना की जांच

रांची : राज्य के 12 जिलों में स्थापित आरटी-पीसीआर लैब में सात जनवरी से कोरोना की जांच शुरू होगी. स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के नए वैरिएंट बीएफ-7 से निपटने के लिए संबंधित सिविल सर्जनों को इन जिलों में आरटी-पीसीआर जांच शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

अभी तक इन जिलों के सैंपल अन्य जिलों के मेडिकल कॉलेज या सदर अस्पताल में जांच के लिए भेजे जाते थे, जहां पहले लैब स्थापित हो चुकी थी। जिन जिलों में 7 जनवरी से जांच शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं उनमें गढ़वा, गिरिडीह, चतरा, लातेहार, लोहरदगा, जामताड़ा, पाकुड़, कोडरमा, खूंटी, रामगढ़, सिमडेगा और सरायकेला-खरसावां शामिल हैं।

इमरजेंसी कोविड रिस्पांस पैकेज-2 के तहत केंद्र से मिले फंड से इन जिलों में आरटी-पीसीआर लैब स्थापित की गयी हैं। प्रत्येक लैब की स्थापना पर 30-30 लाख रुपए खर्च किये गये हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 26 दिसंबर को कोरोना को लेकर उच्च स्तरीय बैठक में इन जिलों में जल्द जांच शुरू करने के निर्देश दिये थे।

इस निर्देश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव सह अपर अभियान निदेशक विद्यानन्द शर्मा पंकज ने इन 12 जिलों के सिविल सर्जनों को पत्र भेजकर कहा है कि देश में कोरोना का नया वैरिएंट बीएफ-7 आने से पहले ही राज्य के सभी जिलों में आरटी-पीसीआर जांच बेहद जरूरी है, ताकि ओपीडी में आने वाले संदिग्ध मरीजों की जांच की जा सके और समय पर संक्रमित की पहचान की जा सके।