Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Wednesday, May 29, 2024
झारखंडरांची

झारखंड में 7 जनवरी से शुरू होगी लातेहार समेत 12 जिलों में RT-PCR लैब के साथ कोरोना की जांच

रांची : राज्य के 12 जिलों में स्थापित आरटी-पीसीआर लैब में सात जनवरी से कोरोना की जांच शुरू होगी. स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के नए वैरिएंट बीएफ-7 से निपटने के लिए संबंधित सिविल सर्जनों को इन जिलों में आरटी-पीसीआर जांच शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

अभी तक इन जिलों के सैंपल अन्य जिलों के मेडिकल कॉलेज या सदर अस्पताल में जांच के लिए भेजे जाते थे, जहां पहले लैब स्थापित हो चुकी थी। जिन जिलों में 7 जनवरी से जांच शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं उनमें गढ़वा, गिरिडीह, चतरा, लातेहार, लोहरदगा, जामताड़ा, पाकुड़, कोडरमा, खूंटी, रामगढ़, सिमडेगा और सरायकेला-खरसावां शामिल हैं।

इमरजेंसी कोविड रिस्पांस पैकेज-2 के तहत केंद्र से मिले फंड से इन जिलों में आरटी-पीसीआर लैब स्थापित की गयी हैं। प्रत्येक लैब की स्थापना पर 30-30 लाख रुपए खर्च किये गये हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 26 दिसंबर को कोरोना को लेकर उच्च स्तरीय बैठक में इन जिलों में जल्द जांच शुरू करने के निर्देश दिये थे।

इस निर्देश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव सह अपर अभियान निदेशक विद्यानन्द शर्मा पंकज ने इन 12 जिलों के सिविल सर्जनों को पत्र भेजकर कहा है कि देश में कोरोना का नया वैरिएंट बीएफ-7 आने से पहले ही राज्य के सभी जिलों में आरटी-पीसीआर जांच बेहद जरूरी है, ताकि ओपीडी में आने वाले संदिग्ध मरीजों की जांच की जा सके और समय पर संक्रमित की पहचान की जा सके।