Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

सीएम ने दिवंगत रूपेश पांडेय की मां को सौंपा नियुक्ति पत्र व 5 लाख रुपये का चेक

Rupesh Pandey

रांची : सीएम हेमंत सोरेन ने दिवंगत रूपेश पांडेय के परिजनों से अपने आवासीय कार्यालय में मुलाकात की। मौके पर सीएम ने रूपेश पांडे की मां उर्मिला देवी को नियुक्ति पत्र और पांच लाख रुपये का चेक भी सौंपा।

बता दें कि हजारीबाग जिले के बरही थाना क्षेत्र के नईटांड़ निवासी 17 वर्षीय रूपेश पांडे की सरस्वती पूजा विसर्जन के दौरान हत्या कर दी गयी थी। इस दौरान भीड़ ने रूपेश पांडे समेत कुल 3 लोगों की पिटाई कर दी थी, जिसमें रूपेश की जान चली गयी थी।

सीएम ने अपने आवासीय कार्यालय में उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की। मामले में 27 नामजद समेत कुल 100 लोगों को आरोपी बनाया गया था। कई आरोपितों को गिरफ्तार भी किया गया है।

मामले ने राज्य में सांप्रदायिक रंग भी ले लिया था क्योंकि आरोपी एक विशेष समुदाय से थे। इस हत्याकांड को लेकर राज्य में विरोध भी हुआ था। हालांकि मामले की जांच की जा रही है।

घटना के बाद हजारीबाग, कोडरमा, गिरिडीह, चतरा सहित कुल पांच जिलों में अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवा बाधित कर दी गयी थी। ताकि किसी भी तरह का सांप्रदायिक तनाव न हो। इस घटना की राष्ट्रीय स्तर पर भी चर्चा हुई थी।

मालूम हो कि सीएम ने मामले में परिवार को निष्पक्ष और त्वरित न्याय का आश्वासन दिया है। जांच के लिए एसआईटी का गठन भी किया गया था।

Rupesh Pandey