Breaking :
||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित||आईईडी ब्लास्ट में फिर एक जवान घायल, लाया गया रांची||लातेहार जिले के लिए गौरव भरा पल…राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर राज्यपाल ने डीसी को किया सम्मानित||पलामू में अंतरराज्यीय गिरोह के नौ अपराधी गिरफ्तार, दो करोड़ की रंगदारी मांगने सहित आधा दर्जन मामलों का खुलासा||25 लाख के इनामी माओवादी नवीन यादव ने किया आत्मसमर्पण, 100 से अधिक बड़े नक्सली हमलों में रहा है शामिल||मतदाता सूची सुधार एवं आधार प्रमाणीकरण कार्य में लातेहार जिला झारखंड में अव्वल, डीसी होंगे सम्मानित||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया PLFI का एरिया कमांडर, हथियार बरामद

सीएम ने दिवंगत रूपेश पांडेय की मां को सौंपा नियुक्ति पत्र व 5 लाख रुपये का चेक

Rupesh Pandey

रांची : सीएम हेमंत सोरेन ने दिवंगत रूपेश पांडेय के परिजनों से अपने आवासीय कार्यालय में मुलाकात की। मौके पर सीएम ने रूपेश पांडे की मां उर्मिला देवी को नियुक्ति पत्र और पांच लाख रुपये का चेक भी सौंपा।

बता दें कि हजारीबाग जिले के बरही थाना क्षेत्र के नईटांड़ निवासी 17 वर्षीय रूपेश पांडे की सरस्वती पूजा विसर्जन के दौरान हत्या कर दी गयी थी। इस दौरान भीड़ ने रूपेश पांडे समेत कुल 3 लोगों की पिटाई कर दी थी, जिसमें रूपेश की जान चली गयी थी।

सीएम ने अपने आवासीय कार्यालय में उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की। मामले में 27 नामजद समेत कुल 100 लोगों को आरोपी बनाया गया था। कई आरोपितों को गिरफ्तार भी किया गया है।

मामले ने राज्य में सांप्रदायिक रंग भी ले लिया था क्योंकि आरोपी एक विशेष समुदाय से थे। इस हत्याकांड को लेकर राज्य में विरोध भी हुआ था। हालांकि मामले की जांच की जा रही है।

घटना के बाद हजारीबाग, कोडरमा, गिरिडीह, चतरा सहित कुल पांच जिलों में अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवा बाधित कर दी गयी थी। ताकि किसी भी तरह का सांप्रदायिक तनाव न हो। इस घटना की राष्ट्रीय स्तर पर भी चर्चा हुई थी।

मालूम हो कि सीएम ने मामले में परिवार को निष्पक्ष और त्वरित न्याय का आश्वासन दिया है। जांच के लिए एसआईटी का गठन भी किया गया था।

Rupesh Pandey