Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
झारखंड

रामनवमी व सरहुल के जुलूस को सीएम ने दी हरी झंडी, जल्द जारी होगा SOP

रांची: कोविड-19 के चलते दो साल तक सरहुल और रामनवमी का जुलूस नहीं निकल सका। लेकिन इस बार राज्य सरकार द्वारा जुलूस निकालने की तैयारी की जा रही है। इस संबंध में जल्द ही एसओपी जारी किया जा सकता है।

असल में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को जरूरी दिशा-निर्देश दिए हैं। अब मुख्य सचिव जल्द ही इस पर एसओपी जारी करेंगे। जुलूस की अनुमति राज्य सरकार देगी। लेकिन इसके साथ ही कोविड को देखते हुए दिशा-निर्देशों के कुछ प्रतिबंध भी लगाए जाएंगे। जिसके तहत गाइडलाइन के तहत मास्क पहनना जरूरी होगा और भीड़ जमा होने की इजाजत होगी। दी गई जानकारी के अनुसार मुख्य सचिव जल्द ही जुलूस के लिए एसओपी जारी करेंगे।

4 अप्रैल को सरहुल और 10 अप्रैल को रामनवमी। दोनों त्योहारों में जुलूस निकालने का रिवाज है। रामनवमी से जुड़े कई संगठन और सरहुल से जुड़ी केंद्रीय सरना समिति समेत विभिन्न आदिवासी संगठनों ने जुलूस की अनुमति देने के अनुरोध को लेकर सीएम से मुलाकात की थी। सीएम ने उन्हें कुछ छूट देने का आश्वासन दिया था।

वर्ष 2020 में कोरोना की वजह से लॉकडाउन था और 2021 में दूसरी लहर के चलते सरकार ने इजाजत नहीं दी थी. लेकिन इस बार कोरोना के मामले बहुत कम हैं. राज्य भर में कोरोना के केवल 64 सक्रिय मामले हैं।

बता दें कि भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने भी राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत लगाए गए प्रतिबंधों को हटा दिया है। गृह मंत्रालय और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी राज्य सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि जहां पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से कम है, वहां वे राज्य के हालात के हिसाब से पाबंदियों में छूट दे सकते हैं।