Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

रामनवमी व सरहुल के जुलूस को सीएम ने दी हरी झंडी, जल्द जारी होगा SOP

रांची: कोविड-19 के चलते दो साल तक सरहुल और रामनवमी का जुलूस नहीं निकल सका। लेकिन इस बार राज्य सरकार द्वारा जुलूस निकालने की तैयारी की जा रही है। इस संबंध में जल्द ही एसओपी जारी किया जा सकता है।

असल में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को जरूरी दिशा-निर्देश दिए हैं। अब मुख्य सचिव जल्द ही इस पर एसओपी जारी करेंगे। जुलूस की अनुमति राज्य सरकार देगी। लेकिन इसके साथ ही कोविड को देखते हुए दिशा-निर्देशों के कुछ प्रतिबंध भी लगाए जाएंगे। जिसके तहत गाइडलाइन के तहत मास्क पहनना जरूरी होगा और भीड़ जमा होने की इजाजत होगी। दी गई जानकारी के अनुसार मुख्य सचिव जल्द ही जुलूस के लिए एसओपी जारी करेंगे।

4 अप्रैल को सरहुल और 10 अप्रैल को रामनवमी। दोनों त्योहारों में जुलूस निकालने का रिवाज है। रामनवमी से जुड़े कई संगठन और सरहुल से जुड़ी केंद्रीय सरना समिति समेत विभिन्न आदिवासी संगठनों ने जुलूस की अनुमति देने के अनुरोध को लेकर सीएम से मुलाकात की थी। सीएम ने उन्हें कुछ छूट देने का आश्वासन दिया था।

वर्ष 2020 में कोरोना की वजह से लॉकडाउन था और 2021 में दूसरी लहर के चलते सरकार ने इजाजत नहीं दी थी. लेकिन इस बार कोरोना के मामले बहुत कम हैं. राज्य भर में कोरोना के केवल 64 सक्रिय मामले हैं।

बता दें कि भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने भी राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत लगाए गए प्रतिबंधों को हटा दिया है। गृह मंत्रालय और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी राज्य सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि जहां पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से कम है, वहां वे राज्य के हालात के हिसाब से पाबंदियों में छूट दे सकते हैं।