Breaking :
||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत||बालूमाथ: शार्ट सर्किट से हाइवा वाहन में लगी आग, जलकर राख||बालूमाथ: महिला का अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ठगे सात लाख रुपये, गिरफ्तार||बालूमाथ: सरस्वती पूजा को लेकर निकाली गयी शोभायात्रा पर मधुमक्खियों का हमला, मची अफरा-तफरी||लातेहार: बालूमाथ में अवैध कोयला लदा पांच हाइवा जब्त, तीन गिरफ्तार||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित

मांडर के पूर्व विधायक बंधु तिर्की के आवास पर 9 घंटे तक चली सीबीआई की छापेमारी, मिले कई अहम दस्तावेज

रांची: सीबीआई की टीम ने मांडर के पूर्व विधायक बंधु तिर्की के बनहोरा और मोराबादी स्थित आवास पर गुरुवार सुबह आठ बजे से शाम चार बजे तक छापेमारी की।

इस छापेमारी के दौरान सीबीआई को कई अहम दस्तावेज मिले हैं. जिसे वह अपने साथ ले गई है। हालांकि छापेमारी के दौरान बंधू तिर्की अपने आवास पर मौजूद नहीं थे। बताया जा रहा है कि तिर्की भाई झारखंड से बाहर हैं।

यह छापेमारी 34वें राष्ट्रीय खेल घोटाले के सिलसिले में हो रही है। इस खेल घोटाले में तत्कालीन खेल मंत्री बंधु तिर्की मुख्य आरोपी हैं। इस सिलसिले में रांची के मोरहाबादी और बनहोरा आवास पर छापेमारी की गई है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

मालूम हो कि इससे पहले एंटी करप्शन ब्यूरो इस मामले की जांच कर रहा था। इस मामले में बंधू तिर्की जेल जा चुके हैं। उनके खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की गई थी। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने खेल घोटाले में बंधु तिर्की को प्राथमिक आरोपी बनाया था। आय से अधिक संपत्ति के मामले में हाल ही में अदालत ने बंधु तिर्की को तीन साल की सजा सुनाई थी। इस वजह से उनकी विधायिका भी चली गई।

34वें राष्ट्रीय खेलों का आयोजन वर्ष 2011 में 22 फरवरी से 26 फरवरी तक झारखंड में हुआ था। राष्ट्रीय खेल के आयोजन में घोटाले का मामला सामने आया। 28 करोड़ 34 लाख रुपये की हेराफेरी का मामला है। बिना टेंडर के ऊंचे दामों पर खेलकूद का सामान खरीदने समेत कई मामले हैं। मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के निर्माण में अनियमितता का मामला सामने आया है। 206 करोड़ की जगह इसका बजट बढ़ाकर 424 करोड़ कर दिया गया।