Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

ब्रेकिंग : विशाल चौधरी के ठिकाने पर भारी मात्रा में नकदी बरामद, नोट गिनने की मशीन मंगवाई गई

रांची : विशाल चौधरी के ठिकाने से भारी मात्रा में नकदी बरामद हुई है। ईडी ने कैश काउंट करने के लिए बैंक नोट काउंटिंग मशीन का ऑर्डर दिया है ।

साहेबगंज के डीएमओ विभूति कुमार से बातचीत के बाद ईडी ने आज सुबह से बड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। झारखंड और बिहार में अलग-अलग जगहों पर एक साथ छापेमारी की जा रही है।

आपको बता दें कि रांची में भगवती कंस्ट्रक्शन करीब छह जगहों पर छापेमारी चल रही है। बताया जा रहा है कि यह कंपनी अनिल झा की है। ईडी ने अशोकनगर में भगवती कंस्ट्रक्शन के ठिकाने पर भी छापेमारी की है। माना जा रहा है कि ईडी को अनिल झा के भगवती कंस्ट्रक्शन और पूजा सिंघल के संबंधों की जानकारी मिली है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

रांची में विशाल चौधरी के ठिकानों पर भी छापेमारी जारी है। अशोक नगर गेट नंबर स्थित विशाल चौधरी के आवास पर ईडी की टीम जमी हुई है। चौधरी को राज्य के एक वरिष्ठतम अधिकारी का करीबी बताया जाता है जो इस समय सत्ता के काफी करीब है। ईडी के वरिष्ठ अधिकारी लगातार चौधरी के आवास पर पहुंच रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विशाल चौधरी के ठिकाने से भारी मात्रा में नकदी बरामद हुई है। ईडी ने कैश काउंट करने के लिए बैंक नोट काउंटिंग मशीन का ऑर्डर दिया है। ज्ञात हो कि इससे पहले आईएएस पूजा सिंघल के सीए सुमन कुमार सिंह के पास से 17 करोड़ से अधिक की नकदी बरामद हुई थी। उस समय भी ईडी ने नोट गिनने के लिए मशीन का सहारा लिया था।