Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

झारखण्ड में होने वाली बीएड प्रवेश परीक्षा स्थगित, जानिए क्या है पूरा मामला

झारखण्ड बीएड प्रवेश परीक्षा स्थगित :- कल झारखंड हाईकोर्ट में बीएड प्रवेश परीक्षा नियमावली को लेकर सुनवाई हुई. जिसमें खंडपीठ ने विश्वविद्यालयों को रिकॉर्ड प्रस्तुत करने का निर्देश दिया. जेसीइसीइबी ने सुनवाई के दौरान बताया कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2022 फिलहाल स्थगित की जा रही है

झारखंड हाइकोर्ट ने अल्पसंख्यक बीएड कॉलेजों के मामले में प्रवेश परीक्षा नियमावली व 85 प्रतिशत सीटों को झारखंड से पढ़े छात्रों के लिए रिजर्व करने को चुनाैती देनेवाली याचिका पर सुनवाई की. चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने सुनवाई के दौरान प्रार्थी का पक्ष सुना.

इसे भी पढ़ें :- प्रश्न पत्र लीक होने के बाद जैक ने रद्द की गणित और जीवविज्ञान की परीक्षा

खंडपीठ ने विश्वविद्यालयों को रिकॉर्ड प्रस्तुत करने का निर्देश देते हुए पूछा कि बीएड कॉलेजों में नामांकन से संबंधित अॉर्डिनेंस बनाने के पूर्व क्या सारी प्रक्रिया पूरी की गयी थी या नहीं. खंडपीठ ने राज्य सरकार को जवाब दायर करने का निर्देश दिया.

सुनवाई के दौरान जेसीइसीइबी की अोर से अधिवक्ता ने खंडपीठ को बताया कि फिलहाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2022 की प्रक्रिया स्थगित की जा रही हैै, जिसे खंडपीठ ने रिकॉर्ड में शामिल कर लिया. मामले की अगली सुनवाई के लिए खंडपीठ ने छह जून की तिथि निर्धारित की. इससे पूर्व प्रार्थी की अोर से वरीय अधिवक्ता ए अल्लाम ने पक्ष रखते हुए खंडपीठ को बताया कि राज्यपाल द्वारा अॉर्डिनेंस जारी करने के पूर्व विश्वविद्यालयों में किसी प्रकार की प्रक्रिया नहीं की गयी थी.

इसे भी पढ़ें :- परीक्षा केंद्र पर दस मिनट देर से पहुंचने पर शिक्षिका ने छात्रा को भगाया, घर पहुंचकर काट ली हाथ की नस

ऑर्डिनेंस के पूर्व सीनेट, सिंडीकेट की स्वीकृति लेनी होती है, जो नहीं ली गयी थी. बीएड़ कॉलेजों के 85 प्रतिशत सीटों को रिजर्व कर दिया गया है. इन सीटों पर झारखंड के संस्थानों से स्नातक व बीएड़ की पढ़ाई करनेवालों का नामांकन होगा. सिर्फ 15 प्रतिशत सीटें खुली रखी गयी है, जो संविधान के प्रावधानों का उल्लंघन है. इसके अलावा अल्पसंख्यक बीएड कॉलेज व प्राइवेट कॉलेजों में सरकार की ओर से किसी प्रकार की वित्तीय सहायता नहीं दी जाती है, लेकिन उसके शिक्षण शुल्क सरकार द्वारा तय किया जा रहा है.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

पूर्व में दो साल के पाठयक्रम के लिए 1.50 लाख रुपये शुल्क निर्धारित किया गया, जिसे घटा कर 1.20 लाख कर दिया गया है. इससे शिक्षण संस्थानों को वित्तीय समस्या का सामना करना पड़ रहा है. उल्लेखनीय है कि प्रार्थी अल्पसंख्यक बीएड कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन की ओर से याचिका दायर की गयी है.

झारखण्ड बीएड प्रवेश परीक्षा स्थगित