Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी 19 जून को आएंगे रांची

रांची : AIAIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी 19 जून को रांची आ रहे हैं। वह मांडर उपचुनाव में खड़े बागी बीजेपी नेता देवकुमार धान के लिए वोट मांगेंगे।

आपको बता दें कि 2019 के विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने देवकुमार धान को प्रत्याशी बनाया था। उस वक्त बीजेपी ने उन्हें मौजूदा विधायक गंगोत्री कुजूर की जगह मौका दिया था. लेकिन देवकुमार धान को बंधु तिर्की के हाथों करारी हार मिली।

इसलिए आय से अधिक संपत्ति मामले में दोषसिद्धि के बाद बंधु तिर्की की सदस्यता रद्द होने के बाद भाजपा ने गंगोत्री कुजूर को उपचुनाव में उतारने का फैसला किया। इससे नाराज देवकुमार धन ने निर्दलीय के रूप में नामांकन दाखिल किया। बाद में वह ओवैसी की पार्टी AIAIM में भी शामिल हो गए। इस वजह से बीजेपी ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

देव कुमार धन ने बताया कि AIAIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी 19 जून को रांची आएंगे। इस दिन मोटरसाइकिल रैली निकाली जाएगी। इसके बाद मांडर में चुनावी सभा भी की जाएगी। देवकुमार धान ने दावा किया है कि असदुद्दीन ओवैसी जैसे ही मांडर में कदम रखेंगे, यहां चुनावी समीकरण बदल जाएगा और उनकी जीत पक्की हो जाएगी। उन्होंने कहा कि 2019 के चुनाव में AIAIM के टिकट पर मांडर से चुनाव लड़ चुके शिशिर लकड़ा नामांकन के बाद अपनी उम्मीदवारी छोड़कर उनके पक्ष में प्रचार कर रहे हैं।

रांची की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारों का कहना है कि अगर ओवैसी इस उपचुनाव में मुस्लिम वोट में सेंध लगाते हैं तो इसका सीधा फायदा बीजेपी उम्मीदवार गंगोत्री कुजूर को होगा। क्योंकि 2019 के विधानसभा चुनाव में मंदार से AIAIM के टिकट पर खड़े शिशिर लकड़ा ने 23 हजार से ज्यादा वोट बटोरे थे। वहीं, बंधु तिर्की की बेटी शिल्पी नेहा तिर्की कांग्रेस के टिकट पर मैदान में हैं। उन्हें झामुमो और राजद का भी समर्थन प्राप्त है।