Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

मिड-डे मील की राशि वितरण में अनियमितता बरतने के आरोप में लातेहार, पलामू, रांची समेंत 6 जिला शिक्षा अधीक्षकों व एक बीईईओ पर कार्रवाई

झारखंड सरकार के स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव राजेश शर्मा के निर्देश पर 6 जिला शिक्षा अधीक्षक और एक बीईओ पर कार्रवाई की गई है। इन अधिकारियों पर मध्याह्न भोजन योजना के लिए राशि वितरण में अनियमितता का आरोप है।

आपको बता दें कि मध्याह्न भोजन योजना को लेकर शिक्षा सचिव राजेश शर्मा ने 25 मई को वीडियो कांफ्रेंसिंग की थी। बैठक में योजना की समीक्षा कर रिपोर्ट तैयार की गई। जिसमें पाया गया कि लातेहार, पलामू, रांची, साहिबगंज, हजारीबाग, पूर्वी सिंहभूम, दुमका, सरायकेला जैसे जिलों में स्कूलों को मिड-डे मील की राशि देनी थी, लेकिन इसमें अनियमितता बरती गई है।

शिक्षा सचिव ने सभी जिला शिक्षा अधीक्षकों को 3 दिनों में सभी स्कूलों को राशि भेजने का निर्देश दिया था। जिसके बाद 6 जिला शिक्षा अधीक्षकों और एक बीईईओ पर कार्रवाई की गई है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

विभाग ने शिक्षा अधीक्षकों से स्पष्टीकरण भी मांगा है। संबंधित जिला शिक्षा अधीक्षक को 31 मई तक विभाग को अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करना है।

जिला शिक्षा अधीक्षकों से सवाल किया गया है कि अब तक सभी योग्य छात्रों के बीच मध्याह्न भोजन की राशि का वितरण क्यों नहीं किया गया है। ऐसे अधिकारियों के खिलाफ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए? खाद्य सुरक्षा भत्ते के वितरण में लापरवाही के कारण अधिकारियों को भविष्य में प्रशासनिक पदों पर क्यों रखा जाए। इन सभी सवालों का जवाब जिला शिक्षा अधीक्षक को देना है।

इसे भी पढ़ें :- Anek Review: बॉक्सिंग और गनफाइट के बीच असली भारतीय होने के मतलब को ढूंढ़ती है आयुष्मान खुराना की फिल्म

शिक्षा सचिव ने शिक्षा निदेशक एवं अधिकारियों को निर्देश दिया है कि 30 मई तक मध्याह्न भोजन योजना की राशि हर हाल में सभी छात्रों को अनिवार्य रूप से उपलब्ध करायी जाये। अगर ऐसा नहीं किया गया तो मामले की व्यापक जांच कराकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लातेहार पलामू रांची