Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडपलामू प्रमंडललातेहार

मिड-डे मील की राशि वितरण में अनियमितता बरतने के आरोप में लातेहार, पलामू, रांची समेंत 6 जिला शिक्षा अधीक्षकों व एक बीईईओ पर कार्रवाई

झारखंड सरकार के स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव राजेश शर्मा के निर्देश पर 6 जिला शिक्षा अधीक्षक और एक बीईओ पर कार्रवाई की गई है। इन अधिकारियों पर मध्याह्न भोजन योजना के लिए राशि वितरण में अनियमितता का आरोप है।

आपको बता दें कि मध्याह्न भोजन योजना को लेकर शिक्षा सचिव राजेश शर्मा ने 25 मई को वीडियो कांफ्रेंसिंग की थी। बैठक में योजना की समीक्षा कर रिपोर्ट तैयार की गई। जिसमें पाया गया कि लातेहार, पलामू, रांची, साहिबगंज, हजारीबाग, पूर्वी सिंहभूम, दुमका, सरायकेला जैसे जिलों में स्कूलों को मिड-डे मील की राशि देनी थी, लेकिन इसमें अनियमितता बरती गई है।

शिक्षा सचिव ने सभी जिला शिक्षा अधीक्षकों को 3 दिनों में सभी स्कूलों को राशि भेजने का निर्देश दिया था। जिसके बाद 6 जिला शिक्षा अधीक्षकों और एक बीईईओ पर कार्रवाई की गई है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

विभाग ने शिक्षा अधीक्षकों से स्पष्टीकरण भी मांगा है। संबंधित जिला शिक्षा अधीक्षक को 31 मई तक विभाग को अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत करना है।

जिला शिक्षा अधीक्षकों से सवाल किया गया है कि अब तक सभी योग्य छात्रों के बीच मध्याह्न भोजन की राशि का वितरण क्यों नहीं किया गया है। ऐसे अधिकारियों के खिलाफ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए? खाद्य सुरक्षा भत्ते के वितरण में लापरवाही के कारण अधिकारियों को भविष्य में प्रशासनिक पदों पर क्यों रखा जाए। इन सभी सवालों का जवाब जिला शिक्षा अधीक्षक को देना है।

इसे भी पढ़ें :- Anek Review: बॉक्सिंग और गनफाइट के बीच असली भारतीय होने के मतलब को ढूंढ़ती है आयुष्मान खुराना की फिल्म

शिक्षा सचिव ने शिक्षा निदेशक एवं अधिकारियों को निर्देश दिया है कि 30 मई तक मध्याह्न भोजन योजना की राशि हर हाल में सभी छात्रों को अनिवार्य रूप से उपलब्ध करायी जाये। अगर ऐसा नहीं किया गया तो मामले की व्यापक जांच कराकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लातेहार पलामू रांची