Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

झारखंड के हाईस्कूलों में 12500 शिक्षकों की होगी नियुक्ति, विधि विभाग ने जतायी सहमति

रांची : झारखंड के हाई स्कूलों में 6 साल बाद शिक्षकों की नियुक्ति होगी, विधि विभाग ने इसपर अपनी सहमति जताई है। पिछली शिक्षक नियुक्ति पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जा सकती है। इसके लिए पिछली भर्ती प्रक्रिया के तहत सफल उम्मीदवारों के अनुशंसित पदों को छोड़ दिया जाएगा। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने इस संबंध में झारखंड कर्मचारी चयन आयोग से जानकारी मांगी है।

छह साल बाद राज्य में हाई स्कूल शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू होगी. राज्य में वर्ष 2016 में हाई स्कूलों में 17572 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की गई थी। नियुक्ति के लिए परीक्षा 2017 में हुई थी और 2019 में रिजल्ट आया था। आयोग ने 17572 में से 8371 शिक्षकों की नियुक्ति की सिफारिश की थी।

जिसमें से 8020 शिक्षक वर्ष 2020 सितंबर तक अपनी सेवा दे रहे थे। इसके बाद वर्ष 2021 में इतिहास और नागरिक शास्त्र विषय में 800 शिक्षकों की नियुक्ति की गई है। इसके अलावा विभिन्न स्तरों पर करीब 3500 पदों पर नियुक्ति की अनुशंसा लंबित है। फिलहाल विधि विभाग की राय के आलोक में 17572 में से करीब 12500 शिक्षकों की नियुक्ति की जा सकती है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

आपको बता दें कि प्रदेश में शिक्षकों के कुल 25169 पद स्वीकृत हैं। राज्य के उच्च विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है। विज्ञान विषयों में शिक्षकों की सबसे अधिक पद रिक्त हैं।

2016 हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति की सुनवाई फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। झारखंड हाईकोर्ट ने साल 2020 में राज्य के 13 अनुसूचित जिलों में शिक्षकों की नियुक्ति को रद्द कर दिया था। इसके बाद इन जिलों के शिक्षकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. जिसकी सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

हाईस्कूल में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर जिलों द्वारा आरक्षण रोस्टर को मंजूरी मिलने के बाद स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग को रिक्त पद भेज दिया गया है। विभाग स्तर पर जिलों द्वारा किए गए नियुक्ति प्रस्ताव का सत्यापन किया जा रहा है। विभागीय स्तर पर रोस्टर को मंजूरी मिलने के बाद इसे कर्मियों को भेजा जाएगा।