Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

लातेहार: विद्यालय की हालत देख जिला परिषद अध्यक्ष ने जतायी नाराजगी, शिक्षा विभाग पर लापरवाही का आरोप

जिला परिषद अध्यक्ष ने किया कोदाग राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय का निरीक्षण

लातेहार : लातेहार जिला परिषद अध्यक्ष पूनम देवी ने आज लातेहार सदर प्रखंड अंतर्गत बेंदी पंचायत के कोदाग गांव स्थित राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय का निरीक्षण किया। उन्होंने स्कूल और उसमें पढ़ने वाले बच्चों की हालत देखकर शिक्षा विभाग के काम के प्रति नाराजगी जाहिर की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शिक्षा विभाग पर लापरवाही का आरोप

निरीक्षण के दौरान जिला परिषद अध्यक्ष ने पाया कि विद्यालय का फर्श टूटा हुआ है, बेंच और डेस्क टूटे हुए हैं, विद्यालय का जल मीनार पिछले 2 महीने से जर्जर हालत में है, नतीजतन विद्यालय के बच्चे नदी का दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। जिसे देख जिला परिषद अध्यक्ष भड़क गये। उन्होंने शिक्षा विभाग की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए लापरवाही का आरोप लगाया है।

प्रतिक्रया व्यक्त करते जिला परिषद अध्यक्ष

विद्यालय व बच्चों की समस्याओं से शिक्षा विभाग को कोई सरोकार नहीं : जिला परिषद अध्यक्ष

मौके पर जिला परिषद अध्यक्ष पूनम देवी ने कहा कि इस स्कूल को देखकर लगता है कि स्कूल के विकास के लिए आने वाली राशि का सदुपयोग नहीं किया जा रहा है। स्कूल का फर्श टूटा, बेंच-डेस्क टूटे हैं, जो मरम्मत तक नहीं कराया गया है। दो माह से जल मीनार खराब है, बच्चे नदी का दूषित पानी पी रहे हैं। लेकिन स्कूल और बच्चों की इन सब समस्याओं से शिक्षा विभाग को कोई सरोकार नहीं है। इससे शिक्षा विभाग की लापरवाही खुलकर सामने आ रही है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में जब उन्होंने स्कूल की प्रधानाध्यापिका से बात की तो उन्होंने बताया कि स्कूल विकास निधि स्कूल की रंगाई-पुताई के लिए ही आती है।

शिक्षा और स्वच्छता की उड़ाई जा रही धज्जियां

जिला परिषद अध्यक्ष ने कहा कि स्कूल व स्कूली बच्चों की स्थिति ठीक नहीं है। यहां शिक्षा और स्वच्छता की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। यही स्थिति रही तो यहां के बच्चे कुपोषण के शिकार होंगे। जिसकी पूरी जिम्मेदारी शिक्षा विभाग की होगी।