Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में अधिवक्ताओं का कार्य बहिष्कार 10 जनवरी रहेगा जारी

रांची : झारखंड स्टेट बार काउंसिल के आह्वान पर शुक्रवार से चल रहा कार्य बहिष्कार 10 जनवरी तक जारी रहेगा। 10 जनवरी की शाम स्टेट बार काउंसिल की बैठक होगी, जिसमें आगे की रणनीति तय की जायेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

काउंसिल सदस्य संजय विद्रोही व एके रसीदी ने बताया कि प्रदेश के अधिवक्ता मंगलवार तक न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अधिवक्ताओं के हित को लेकर एकतरफा घोषणा की गयी है, इस घोषणा को सैद्धांतिक रूप में लागू किया जाना चाहिए. मुख्यमंत्री द्वारा संवाद में की गयी घोषणाओं की जानकारी राज्य बार काउंसिल के पास नहीं है, यह केवल समाचार पत्रों में ही दिखायी देता है।

उन्होंने कहा कि इन घोषणाओं को निर्धारित समय सीमा में लागू करने के लिए मुख्यमंत्री को समय दिया जाना चाहिए था, ताकि अधिवक्ताओं को उनकी घोषणाओं पर विश्वास हो सके। बैठक में काउंसिल सदस्य राम शुभग सिंह, महेश तिवारी, एके चतुर्वेदी, नीलेश कुमार, महाधिवक्ता राजीव रंजन मौजूद नहीं थे।

इससे पूर्व रांची में राज्य बार काउंसिल की राज्य जिला बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि अधिवक्ताओं के हित को ध्यान में रखते हुए अधिवक्ता 10 जनवरी तक न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे। कोर्ट फीस वापसी को लेकर सरकार पर दबाव बनाने का फैसला लिया गया।