Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

झारखंड में अधिवक्ताओं का कार्य बहिष्कार 10 जनवरी रहेगा जारी

रांची : झारखंड स्टेट बार काउंसिल के आह्वान पर शुक्रवार से चल रहा कार्य बहिष्कार 10 जनवरी तक जारी रहेगा। 10 जनवरी की शाम स्टेट बार काउंसिल की बैठक होगी, जिसमें आगे की रणनीति तय की जायेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

काउंसिल सदस्य संजय विद्रोही व एके रसीदी ने बताया कि प्रदेश के अधिवक्ता मंगलवार तक न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अधिवक्ताओं के हित को लेकर एकतरफा घोषणा की गयी है, इस घोषणा को सैद्धांतिक रूप में लागू किया जाना चाहिए. मुख्यमंत्री द्वारा संवाद में की गयी घोषणाओं की जानकारी राज्य बार काउंसिल के पास नहीं है, यह केवल समाचार पत्रों में ही दिखायी देता है।

उन्होंने कहा कि इन घोषणाओं को निर्धारित समय सीमा में लागू करने के लिए मुख्यमंत्री को समय दिया जाना चाहिए था, ताकि अधिवक्ताओं को उनकी घोषणाओं पर विश्वास हो सके। बैठक में काउंसिल सदस्य राम शुभग सिंह, महेश तिवारी, एके चतुर्वेदी, नीलेश कुमार, महाधिवक्ता राजीव रंजन मौजूद नहीं थे।

इससे पूर्व रांची में राज्य बार काउंसिल की राज्य जिला बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि अधिवक्ताओं के हित को ध्यान में रखते हुए अधिवक्ता 10 जनवरी तक न्यायिक कार्य से दूर रहेंगे। कोर्ट फीस वापसी को लेकर सरकार पर दबाव बनाने का फैसला लिया गया।