Breaking :
||लातेहार: महुआडांड में महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स

लापरवाही का आरोप : खून की कमी से महिला की मौत, चंदवा सीएचसी में उपलब्धता के बाद भी नहीं चढ़ाया गया खून

लातेहार : माकपा नेता सह सामाजिक कार्यकर्ता अयूब खान ने चंदवा सीएचसी के स्वास्थ्य कर्मियों पर आरोप लगाया है कि उनकी लापरवाही के कारण प्रखंड के कामता गांव निवासी दिवंगत मुनेश्वर महली की पत्नी गीता देवी (60 वर्ष) की मौत खून की कमी से हो गयी। .

जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने बताया है कि मंगलवार को गीता देवी के पेट में अचानक दर्द उठा था। जिन्हें परिजनों की सहायता से ईलाज के लिए चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया।

माकपा नेता सह सामाजिक कार्यकर्ता अयूब खान

जहां जांच के बाद चिकित्सकों ने ब्लड की कमी बताते हुए परिजनों को ब्लड की व्यवस्था करने को कहा गया। चिकित्सकों ने महिला के शरीर में 5 ग्राम ब्लड होने की बात बताई थी।

उन्होंने आगे बताया है कि बुधवार 12 बजे दिन में ही परिजनों ने अस्पताल को ब्लड उपलब्ध करा दिया गया। लेकिन शाम तक मरीज गीता को अस्पताल में ब्लड नहीं चढ़ाया गया। जब बुधवार की देर रात उनकी हालत बिगड़ी तो उन्हें सदर अस्पताल लातेहार रेफर कर दिया गया। जहां गुरुवार की अहले सुबह ब्लड चढ़ने के क्रम में गीता की मौत हो गई।

आगे बताया कि ब्लड अस्पताल में घंटों पड़ा रह गया लेकिन मरीज को चढ़ाया नहीं गया। एक तरफ अस्पताल में रक्त की कमी बताई गई वहीं दूसरी ओर ब्लड रहते हुए मरीज को नहीं चढ़ाया गया। परिजनों को मलाल है कि ब्लड आते ही मरीज को चंदवा अस्पताल में ब्लड चढा दिया जाता और ब्लड चढ़ते हुए लातेहार भेज दिया जाता तो गीता की जान बच सकती थी।

उन्होंने इस मामले में बीपीएम को दोषी ठहराते हुए कहा कि बीपीएम का पुनः चंदवा सीएचसी में पदस्थापना और उसके द्वारा बरती जा रही लापरवाही से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *