Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में एक बाइक सवार की मौत, दो अन्य घायल||अपहृत डॉक्टर सकुशल बरामद, डालटनगंज में किराये का मकान लेकर छिपा रखे थे अपहरणकर्ता, तीन गिरफ्तार||रांची में पचास हजार का इनामी माओवादी हथियार के साथ गिरफ्तार||गुमला में तेज रफ़्तार का कहर, सड़क हादसे में दो छात्रों की दर्दनाक मौत||रांची: TSPC के इनामी उग्रवादी ने पुलिस के सामने किया सरेंडर||विजय संकल्प महारैली में बोले पीएम मोदी, मोदी की गारंटी पर देश कर रहा भरोसा, अबकी बार 400 पार||पलामू: बेटी की शादी के लिए बैंक से निकाले पैसे, रुपयों से भरा बैग छीनकर लुटेरे हुए फरार||सिंदरी खाद कारखाना चालू कराने का लिया था संकल्प, मोदी की गारंटी हुई पूरी : नरेन्द्र मोदी||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा
Saturday, March 2, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: बालूमाथ में जंगली हाथियों ने 17 घर तोड़े, ग्रामीणों में आक्रोश, वन विभाग मुर्दाबाद के लगाये नारे

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : गुरुवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड के बलबल ग्राम में जंगली हाथियों ने 17 घरों को तहस-नहस कर दिया। इस घटना से ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति आक्रोश देखा जा रहा है। जंगली हाथियों द्वारा लगातार क्षेत्र के किसी न किसी गांव में उत्पात मचाये जाने से आक्रोश व दशत का माहौल है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शुक्रवार को ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति इतना उबाल देखा गया कि उन्होंने वन विभाग होश में आओ, वन विभाग मुर्दाबाद आदि के नारे लगाते हुए आक्रोश व्यक्त किया। वहीं मौके पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों और कर्मियों को ग्रामीणों ने जमकर खरी-खोटी सुनायी।

ग्रामीणों का कहना था कि जंगली हाथियों ने 2 वर्षों के भीतर कई बार अपना निशाना बनाया है। इस दौरान अब तक 3 दर्जन से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा चुके हैं। जिससे उन्हें लाखों रुपए की क्षति हुई है। ग्रामीणों का आरोप था कि बीते 18 वर्षों से बालूमाथ थाना क्षेत्र में जंगली हाथियों ने उत्पात मचा रखा है लेकिन राज्य सरकार के साथ-साथ यहां के वन विभाग के अधिकारी इसके प्रति सचेत और गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। नतीजतन इसका कोप भाजन यहां के भोले-भाले ग्रामीणों को बनना पड़ रहा है।