Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

लातेहार: बालूमाथ में जंगली हाथियों ने 17 घर तोड़े, ग्रामीणों में आक्रोश, वन विभाग मुर्दाबाद के लगाये नारे

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : गुरुवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड के बलबल ग्राम में जंगली हाथियों ने 17 घरों को तहस-नहस कर दिया। इस घटना से ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति आक्रोश देखा जा रहा है। जंगली हाथियों द्वारा लगातार क्षेत्र के किसी न किसी गांव में उत्पात मचाये जाने से आक्रोश व दशत का माहौल है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शुक्रवार को ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति इतना उबाल देखा गया कि उन्होंने वन विभाग होश में आओ, वन विभाग मुर्दाबाद आदि के नारे लगाते हुए आक्रोश व्यक्त किया। वहीं मौके पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों और कर्मियों को ग्रामीणों ने जमकर खरी-खोटी सुनायी।

ग्रामीणों का कहना था कि जंगली हाथियों ने 2 वर्षों के भीतर कई बार अपना निशाना बनाया है। इस दौरान अब तक 3 दर्जन से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा चुके हैं। जिससे उन्हें लाखों रुपए की क्षति हुई है। ग्रामीणों का आरोप था कि बीते 18 वर्षों से बालूमाथ थाना क्षेत्र में जंगली हाथियों ने उत्पात मचा रखा है लेकिन राज्य सरकार के साथ-साथ यहां के वन विभाग के अधिकारी इसके प्रति सचेत और गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। नतीजतन इसका कोप भाजन यहां के भोले-भाले ग्रामीणों को बनना पड़ रहा है।