Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Wednesday, May 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: बालूमाथ में जंगली हाथियों ने 17 घर तोड़े, ग्रामीणों में आक्रोश, वन विभाग मुर्दाबाद के लगाये नारे

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : गुरुवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड के बलबल ग्राम में जंगली हाथियों ने 17 घरों को तहस-नहस कर दिया। इस घटना से ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति आक्रोश देखा जा रहा है। जंगली हाथियों द्वारा लगातार क्षेत्र के किसी न किसी गांव में उत्पात मचाये जाने से आक्रोश व दशत का माहौल है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शुक्रवार को ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति इतना उबाल देखा गया कि उन्होंने वन विभाग होश में आओ, वन विभाग मुर्दाबाद आदि के नारे लगाते हुए आक्रोश व्यक्त किया। वहीं मौके पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों और कर्मियों को ग्रामीणों ने जमकर खरी-खोटी सुनायी।

ग्रामीणों का कहना था कि जंगली हाथियों ने 2 वर्षों के भीतर कई बार अपना निशाना बनाया है। इस दौरान अब तक 3 दर्जन से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा चुके हैं। जिससे उन्हें लाखों रुपए की क्षति हुई है। ग्रामीणों का आरोप था कि बीते 18 वर्षों से बालूमाथ थाना क्षेत्र में जंगली हाथियों ने उत्पात मचा रखा है लेकिन राज्य सरकार के साथ-साथ यहां के वन विभाग के अधिकारी इसके प्रति सचेत और गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। नतीजतन इसका कोप भाजन यहां के भोले-भाले ग्रामीणों को बनना पड़ रहा है।