Breaking :
||स्पेनिश महिला पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को भेजा गया जेल, पीड़ित दंपति का कोर्ट में बयान दर्ज||लातेहार: मनिका में संदेहास्पद स्थिति में पेड़ से लटका मिला युवक का शव||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार
Sunday, March 3, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: खेलकूद में हिस्सा नहीं लेने पर वार्डन ने छात्राओं को दी शारीरिक सजा, कई की हालत बिगड़ी, कार्रवाई की मांग

नितीश कुमार यादव/हेरहंज

लातेहार : जिले के हेरहंज प्रखंड मुख्यालय स्थित झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय के छात्राओं को विद्यालय की वार्डन एलिजाबेथ कुमुद टोप्पो ने खेलकूद में भाग नहीं लेने पर दण्डित किया है। वार्डन ने छात्राओं से दो-दो सौ बार उठक बैठक कराया है। इस पनिसमेंट के बाद कई छात्रायें बीमार हो गयीं हैं। बीमार छात्राओं को हेल्थ वेलनेस सेंटर सह प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हेरहंज में इलाज कराया गया।

Kidzee Latehar
Kidzee Latehar

क्या है पूरा मामला

छात्राओं से पूछे जाने पर बताया गया कि प्रत्येक दिन के अनुसार गुरुवार की शाम छह बजे असेम्बली घंटी के बाद खेल कूद का आयोजन किया जाना था। जिसमें उपस्थित 176 छात्राओं में से मात्र छह छात्राओं ने ही खेल कूद में भाग लिया। शेष छात्राओं को विद्यालय परिसर में वार्डन श्रीमती टोप्पो द्वारा खेल में शामिल नहीं होने पर दो-दो सौ बार शारीरिक दंड के रूप में उठक बैठक कराया। इस शारीरिक दंड से सभी छात्राओं की हालत खराब हो गयी। छात्राएं रात में दर्द से कराहते-कराहते बेहोश हो जा रही थी। इसके बाद रात में ही डॉ नहीं रहने के कारण लैब टैक्नीशियन निरंजन कुमार को गार्ड ममता कुमारी द्वारा सूचना दी गयी। सूचना मिलते ही लैब टैक्नीशियन निरंजन कुमार रात में ही विद्यालय पहुंच कर छात्राओं का इलाज शुरू किया। वहीं शुक्रवार को 10 छात्राओं की अधिक तबीयत खराब हो जाने के कारण उन्हें हेरहंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सह हेल्थ वेलनेस सेंटर में लाया गया जहां एएनएम सावित्री कुमारी की देख रेख में इलाज किया गया।

बीमार छात्राओं के नाम

सबिता कुमारी क्लास 7 पिता स्व बिनय ठाकुर ग्राम चाया
टिंकी कुमारी क्लास 6 पिता पाण्डु उरांव ग्राम मासिलोंग
उषा कुमारी क्लास 7 पिता राजू यादव ग्राम इचाक
अनिता कुमारी क्लास 6 बुद्धदेव उरांव ग्राम जानी
प्रीति कुमारी क्लास 6 पिता राजू यादव ग्राम इचाक
नेहा कुमारी क्लास 7 ननदेव यादव ग्राम चाईं
संगीता कुमारी क्लास 7 पिता जीतू उरांव ग्राम कटांग
मनीता कुमारी क्लास 6 पिता कृष्णा गंझू ग्राम जमुआ
गायत्री कुमारी क्लास 11 पिता हीरू उरांव ग्राम टुंडा हुट्टू (बरियातू)
सुमंती कुमारी क्लास 6 पिता लिमलेश कुमार ग्राम बन्दरलॉरिया शामिल हैं।

इस घटना की सूचना जिले के वरीय पदाधिकारी को मिली। सूचना मिलते ही वरीय पदाधिकारी के निर्देश पर प्रखण्ड विकास पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी प्रदीप कुमार दास व प्रखंड प्रमुख पार्वती देवी, उप प्रमुख विजय उरांव ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सह हेल्थ वेलनेस सेंटर हेरहंज पहुंचे और घटना की विस्तृत जानकारी छात्राओं से व गार्ड ममता कुमारी से ली। मौके पर छात्राओं व गार्ड ने वार्डन द्वारा दो-दो सौ बार उठक बैठक कराने से तबियत खराब होने की बात कही।

उठक बैठक की घटना से तड़पती छात्राओं से पंचायत समिति सदस्य उपेन्द्र यादव, पंचायत समिति सदस्य पति शिव कुमार सिंह ने भी घटना की जानकारी ली और घटना को सत्य पाया। कहा इस तरह का दंड देना अपराध है। जनप्रतिनिधियों ने वार्डन श्रीमती टोप्पो के ऊपर कड़ी से कड़ी कारवाई करने की मांग उपायुक्त भोर सिंह यादव से की है।

कस्तूरबा आवासीय बालिका विद्यालय एकीकृत प्रखंड बालूमाथ से अलग होकर 21 सितम्बर 2017 को हेरहंज प्रखंड में झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय के नाम से संचालित हो रहा है। इस आवासीय विद्यालय में वार्डन के पद पर सबसे पहले मारिया गोरेती खेस कार्यरत थी। वहीं 05 दिसम्बर 2018 से वार्डन के पद पर एलिजाबेथ कुमुद टोप्पो ने पदभार ग्रहण किया है।

पूर्व में भी झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय की वार्डन श्रीमती टोप्पो के खिलाफ लातेहार विधायक बैद्यनाथ राम से विद्यालय निरीक्षण के दौरान छात्राओं ने कई बिंदुओं पर शिकायत की थी। लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

क्या कहती हैं वार्डन

इस मामले में वार्डन एलिजाबेथ कुमुद टोप्पो ने पूछे जाने पर बताया कि प्रत्येक दिन की तरह गुरुवार को खेल में 176 छात्राओं में से मात्र छह छात्रायें शामिल हुईं। खेलकूद में शामिल नहीं होने के कारण छात्राओं से एक एक सौ बार उठक बैठक के रूप में शारीरिक दंड दिया गया।

क्या कहते हैं बीडीओ

इस मामले में प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी प्रदीप कुमार दास ने कहा कि घटना की सूचना जिले के वरीय पदाधिकारी के द्वारा मिली। सूचना मिलते ही हेरहंज हॉस्पिटल पहुंचा और मामले की जानकारी ली। इस मामले की रिपोर्ट बनाकर जिले के वरीय पदाधिकारी को सौंप दूंगा।

सांसद प्रतिनिधि रूपेंद्र जायसवाल ने कहा की झारखण्ड बालिका आवासीय विद्यालय की वार्डन द्वारा छात्राओं के साथ जिस कदर व्यवहार किया गया है वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। छात्राओं से दो दो सौ बार उठक बैठक कराना यह तुगलकी फरमान से कम नहीं है। सांसद प्रतिनिधि ने कहा की विभाग तत्काल ऐसे लोगों पर सख्त करवाई कर बर्खास्त करे और बच्चों का समुचित इलाज कराये।

मौके पर समाज सेवी शिवनाथ रजक, भाजपा उपाध्यक्ष जितेश यादव, पंचायत समिति सदस्य सलैया संगीता देवी, महेंद्र भगत, रॉकी कुमार समेत काफी संख्या में कर्मी व ग्रामीण मौजूद थे।