Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

लातेहार: ग्रामीणों ने गांव में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्रवेश पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह

राजीव मिश्रा/लातेहार

लातेहार : लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ अमर्यादित भाषा का प्रयोग से पूरा आदिवासी समाज आक्रोशित है। लातेहार जिले के कई गावों में तो आदिवासियों ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के गांव में प्रवेश पर भी रोक लगा दी है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिले के मनिका प्रखंड के जमुना गांव में कांग्रेसियों के खिलाफ वॉल राइटिंग की गई है। ग्रामीणों का कहना है कि अधीर रंजन चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने व कांग्रेस से निकाले जाने तक नेताओं का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

Latehar News

ग्रामीणों का कहना है कि जब तक दोषी नेता अधीर रंजन चौधरी को पार्टी से निष्कासित नहीं किया जाता, तब तक कोई भी कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता को गांव में प्रवेश नहीं करने देंगे। इसके लिए ग्रामीणों ने गांव में कई जगह वॉल राइटिंग भी की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

लोगों का कहना है कि देश में पहली बार किसी आदिवासी महिला ने सर्वोच्च स्थान हासिल किया है। इससे जहां आदिवासी समाज को गर्व है, वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी राष्ट्रपति को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। यह देश के सर्वोच्च पद के साथ-साथ देश की जनता, लोकतंत्र और आदिवासी समाज का अपमान है।