Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में एक बाइक सवार की मौत, दो अन्य घायल||अपहृत डॉक्टर सकुशल बरामद, डालटनगंज में किराये का मकान लेकर छिपा रखे थे अपहरणकर्ता, तीन गिरफ्तार||रांची में पचास हजार का इनामी माओवादी हथियार के साथ गिरफ्तार||गुमला में तेज रफ़्तार का कहर, सड़क हादसे में दो छात्रों की दर्दनाक मौत||रांची: TSPC के इनामी उग्रवादी ने पुलिस के सामने किया सरेंडर||विजय संकल्प महारैली में बोले पीएम मोदी, मोदी की गारंटी पर देश कर रहा भरोसा, अबकी बार 400 पार||पलामू: बेटी की शादी के लिए बैंक से निकाले पैसे, रुपयों से भरा बैग छीनकर लुटेरे हुए फरार||सिंदरी खाद कारखाना चालू कराने का लिया था संकल्प, मोदी की गारंटी हुई पूरी : नरेन्द्र मोदी||कैबिनेट की बैठक में 40 प्रस्तावों को मिली मंजूरी, राज्य कर्मियों की पेंशन योजना में संशोधन, अब पांच हजार रुपये मिलेगा पोशाक भत्ता||पलामू: नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल सश्रम कारावास की सजा
Saturday, March 2, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरमनिकालातेहार

लातेहार: ग्रामीणों ने गांव में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्रवेश पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह

राजीव मिश्रा/लातेहार

लातेहार : लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ अमर्यादित भाषा का प्रयोग से पूरा आदिवासी समाज आक्रोशित है। लातेहार जिले के कई गावों में तो आदिवासियों ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के गांव में प्रवेश पर भी रोक लगा दी है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिले के मनिका प्रखंड के जमुना गांव में कांग्रेसियों के खिलाफ वॉल राइटिंग की गई है। ग्रामीणों का कहना है कि अधीर रंजन चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने व कांग्रेस से निकाले जाने तक नेताओं का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

Latehar News

ग्रामीणों का कहना है कि जब तक दोषी नेता अधीर रंजन चौधरी को पार्टी से निष्कासित नहीं किया जाता, तब तक कोई भी कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता को गांव में प्रवेश नहीं करने देंगे। इसके लिए ग्रामीणों ने गांव में कई जगह वॉल राइटिंग भी की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

लोगों का कहना है कि देश में पहली बार किसी आदिवासी महिला ने सर्वोच्च स्थान हासिल किया है। इससे जहां आदिवासी समाज को गर्व है, वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी राष्ट्रपति को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। यह देश के सर्वोच्च पद के साथ-साथ देश की जनता, लोकतंत्र और आदिवासी समाज का अपमान है।