Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

श्रीलंका में राष्ट्रपति के देश छोड़ते ही हंगामा, इमरजेंसी लागू, पीएम आवास का सुरक्षा घेरा तोड़ा, देखें वीडियो

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के देश छोड़ते ही कोलंबो में हंगामा शुरू हो गया है. प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर गये हैं. उग्र भीड़ पर आंसू गैस के गोले छोड़े गये हैं. कोलंबो में प्रधानमंत्री के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बड़ी संख्या में सैन्य कर्मियों की तैनाती की गयी है. मौके पर प्रदर्शनकारी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते नजर आ रहे हैं. देश में बढ़ते आक्रोश के बाद श्रीलंका में इमरजेंसी लागू कर दिया गया है.

यहां चर्चा कर दें कि श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया बुधवार को सेना के एक विमान से देश छोड़कर मालदीव पहुंच चुके हैं. देश की अर्थव्यवस्था को न संभाल पाने के कारण उनके और उनके परिवार के खिलाफ बढ़ते जन आक्रोश के बीच राजपक्षे ने बुधवार को इस्तीफा देने की घोषणा की थी.

राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल ने प्रसारण बंद किया

श्रीलंका के राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल ने प्रसारण बंद किया गया है. लोग सड़क पर नजर आ रहे हैं. प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए हवाई फायरिंग भी की गयी है. हजारों प्रदर्शनकारी संसद भवन के सामने जुट गये हैं.

श्रीलंका में इमरजेंसी

श्रीलंका में इमरजेंसी की घोषणा कर दी गयी है. राष्ट्रपति राजपक्षे के भागने के बाद श्रीलंका में इमरजेंसी का ऐलान किया गया है. श्रीलंका में विदेश मंत्रालय के पूर्व सलाहकार हरीम पीरिस ने बताया कि जब प्रदर्शनकारी यहां आ रहे थे तब उन पर आंसू गैस के गोले दागे गये. प्रदर्शनकारी अब प्रधानमंत्री के आवास के प्रवेश द्वार की ओर जा रहे हैं, स्पेशल फोर्स, आर्म्ड फोर्स को भी सड़कों पर उतार दिया है.

पीएम आवास का सुरक्षाघेरा तोड़ा गया

उग्र भीड़ ने पीएम आवास का सुरक्षाघेरा तोड़ दिया है. पीएम रानिल विक्रमसिंघे को कार्यवाहक राष्‍ट्रपति बनाये गये हैं. हेलिकॉप्‍टर से प्रदर्शनकारियों की निगरानी की जा रही है. श्रीलंका के प्रधानमंत्री कार्यालय के हवाले से खबर आयी कि राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के देश से भाग जाने के बाद श्रीलंका ने आपातकाल की घोषणा की है. श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के मालदीव भाग जाने के बाद कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में आपातकाल की स्थिति घोषित की.

प्रदर्शनकारियों ने सेना के वाहन को रोका

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के देश छोड़ने की खबर जैसे ही लोगों को मिली, वे सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करने लगे. हजारों प्रदर्शनकारी संसद की ओर बढ़ रहे हैं. प्रदर्शनकारियों ने सेना के वाहन को रोक दिया है. भीड़ पीएम आवास की ओर भी बढ़ रही है.

श्रीलंका वायु सेना का बयान

श्रीलंका की वायु सेना की ओर से एक संक्षिप्त बयान जारी किया गया है, जिसमें बताया गया है कि 73 वर्षीय नेता अपनी पत्नी और दो सुरक्षा अधिकारियों के साथ सेना के एक विमान में देश छोड़कर चले गये हैं. बयान में कहा गया है कि सरकार के अनुरोध पर और संविधान के तहत राष्ट्रपति को मिली शक्तियों के अनुसार, रक्षा मंत्रालय की पूर्ण स्वीकृति के साथ राष्ट्रपति, उनकी पत्नी और दो सुरक्षा अधिकारियों को 13 जुलाई को कातुनायके अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से मालदीव रवाना होने के लिए श्रीलंकाई वायु सेना का विमान उपलब्ध कराया गया.

बिना इस्‍तीफा दिये भागे गोटबाया राजपक्षे

श्रीलंका में समागी जाना बालवेगया पार्टी के सांसद पाटली चंपिका रणावाका ने कहा है कि गोटबाया राजपक्षे अपना इस्तीफा दिए बिना ही देश छोड़ चुके हैं. स्पीकर और पूरे देश को भरोसा था कि वे अपना इस्तीफा ठीक तरह से देंगे और संविधान के अनुसार प्रधानमंत्री अन्तरिम राष्ट्रपति का पद संभालते. उन्होंने कहा कि और हम अगले हफ्ते तक राष्ट्रपति के बचे कार्यकाल के लिए नये राष्ट्रपति का चुनाव 20 जुलाई को सांसद में गुप्त मतपत्र के द्वारा कर लेते.