Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: चचेरे भाई की हत्या के आरोपी की मौत पर सड़क जाम कर हंगामा, जेल से आकर पिता ने बेटे को दी मुखाग्नि

Palamu Latest Crime News

पलामू : हत्या के आरोपित अजय चौधरी की मौत पुलिस रिमांड के बाद तबीयत बिगड़ने से हो गयी। उसका शव रांची रिम्स से पोस्टमार्टम के बाद पलामू जिले के चैनपुर थाना क्षेत्र के कल्याणपुर में उसके घर लाया गया। अजय की मौत से स्थानीय लोग आक्रोशित हो गये। अजय की मौत का जिम्मेवार पुलिस को ठहराते हुए सैंकड़ों लोग मंगलवार की सुबह सड़क पर उतर गये। अजय के शव को शाहपुर में कोयल नदी पुल पर रखकर जाम कर दिया। सुबह सात बजे से नौ बजे तक दो घंटे सड़क जाम रहा।

अजय की मौत के बाद से ही पुलिस को हंगामा होने की आशंका थी। पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर मुख्य सड़क पर आने से प्रदर्शनकारियों को रोकने का प्रयास किया। चैनपुर, रामगढ़, सदर और मेदिनीनगर शहर चार थाना को मामले की संवेदनशीलता को समझते हुए तैनात किया गया था। लेकिन कल्याणपुर के मार्ग में लगाए गये बैरिकेडिंग को तोड़ते और पुलिस को धक्का देते हुए लोग शव लेकर आगे बढ़ गये। इस दौरान पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गयी। लोग अजय की मौत के दोषियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। सड़क पर टायर जलाकर लोगों ने विरोध जताया। ग्रामीणों का कहना है कि रिमांड पर लेने के बाद पुलिस ने उसे पीटा, जिससे तबियत बिगड़ गयी और रिम्स ले जाने के दौरान ही मौत हो गयी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पुल जाम होने से चैनपुर-मेदिनीनगर और मेदिनीनगर-गढ़वा मार्ग प्रभावित रहा, जिससे हजारों लोगों को मुश्किल का सामना करना पड़ा। स्कूल बस को वापस लौटना पड़ा।

शुरुआत में थाना प्रभारी के स्तर पर जाम हटाने के लिए वार्ता का प्रयास किया गया। जब वह असफल रहे तो सदर एसडीपीओ मणिभूषण प्रसाद पहुंचे। बाद में एएसपी राकेश कुमार मौके पर पहुंचे। उनके आश्वासन पर जाम समाप्त हुआ और शव को अंतिम संस्कार के लिए घर लेकर लोग गये। जेल से मृतक के पिता सुरेश उर्फ ननहक चौधरी के आने के बाद दाह संस्कार किया गया।

एएसपी राकेश ने कहा कि यदि पुलिस की पिटाई से मौत हुई है तो कार्रवाई पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो सकती है। मनोज चौधरी हत्या मामले में सुपरविजन होगा, जो दोषी नहीं होंगे उनका नाम केस से हटा दिया जायेगा। प्रावधान के अनुरूप मुआवजा पीड़ित परिवार को दिया जायेगा।

अजय चौधरी ने होली की रात 26 मार्च को अपने चचेरे भाई मनोज चौधरी का हत्या कर दिया था। 27 को इसकी गिरफ्तारी हुई थी। छह अप्रैल को पूछताछ के लिए अजय को रिमांड पर लिया गया था। सात अप्रैल को रिमांड से जेल पहुंचाया गया। जेल प्रशासन ने इसके बिगड़े तबियत को देखते हुए जेल गेट से ही हॉस्पिटल भेज दिया। फिर रिम्स ले जाने के क्रम में रात में ही मौत हो गयी। इसके बाद से ही पुलिस पर पिटाई का आरोप लग रहा है।

चैनपुर थाना क्षेत्र के कल्याणपुर में अजय चौधरी का दाह संस्कार कोयल नदी तट पर मंगलवार दोपहर किया गया। उसके पिता सुरेश उर्फ ननहक चौधरी ने मुखाग्नि दी। सुरेश को मुखाग्नि देने के लिए सेंट्रल जेल से सुरक्षा के बीच कल्याणपुर लाया गया। अंतिम यात्रा में सांसद प्रतिनिधि भोला पांडेय, बीजेपी मंडल अध्यक्ष शशिभूषण पांडेय, समाजिक कार्यकर्ता एवं वार्ड 33 के पार्षद पति विजय चन्द्रवंशी समेत सैकड़ों लोग शामिल हुए।

इससे पहले रिमांड पर लेकर पूछताछ के बहाने अजय चौधरी की पुलिस पिटायी से मौत का आरोप लगाकर कल्याणपुर के लोगों ने कोयल पुल जाम करके जमकर प्रदर्शन किया था। करीब दो घंटे तक जाम रखा गया था।

इस क्रम में आक्रोशित लोग घटना की निष्पक्ष जांच, मुआवजा एवं सुरेश चौधरी की रिहाई की मांग कर रहे थे। मौके पर पुलिसकर्मियों को बताया गया कि अजय का दाहसंस्कार करने के लिए परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं है। पिता भी जेल भेजे गए हैं। ऐसे में उन्हें जेल से बाहर लाया जाये। बाद में कोर्ट में अर्जी लगाने के बाद सुरेश चौधरी को जेल से भारी सुरक्षा के बीच कल्याणपुर लाया गया और दाहसंस्कार कराया गया।

पूर्वाहन 11 बजे सुरेश चौधरी को लाया गया और दाह संस्कार खत्म होते ही दोपहर करीब 2 बजे सेंट्रल जेल पुनः ले जाया गया। अजय के बाकी के श्राद्धकर्म के लिए नये सिरे से प्रोविजनल बेल के लिए कोर्ट में अर्जी लगायी जायेगी।

अजय चौधरी मौत मामले में उसके परिजनों द्वारा पलामू न्यायालय में कंप्लेंट केस करने का निर्णय लिया गया है। परिजनों ने कहा कि अगर वह थाना प्रभारी और पुलिस अधीक्षक के खिलाफ चैनपुर थाना में मामला दर्ज करने के लिए आवेदन देते हैं तो किसी कीमत पर मामला दर्ज नहीं होगा। ऐसे में उन्होंने न्यायालय में कंप्लेंट केस करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि अजय की मौत पुलिस रिमांड के दौरान पुलिस पिटाई से हुई है और इसकी न्यायिक जांच के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं।

Palamu Latest Crime News