Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

यूपीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात कहा- यह चुनाव विचारधारा की लड़ाई

रांची : राष्ट्रपति पद के लिए यूपीए प्रत्याशी यशवंत सिन्हा ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात की। श्री सिन्हा ने मुख्यमंत्री से राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन की अपील की।

इससे पहले महागठबंधन द्वारा बनाए गए राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने कहा कि अगर एनडीए गठबंधन अनुसूचित जनजाति की महिलाओं को सशक्त बनाना चाहता है तो उन्हें राष्ट्रपति की जगह प्रधानमंत्री बनाया जाना चाहिए। ऐसा करके एनडीए उन्हें और ताकतवर बना सकता है। शनिवार को रांची में कांग्रेस विधायकों की बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि यह चुनाव असल में विचारधारा की लड़ाई है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

एक तरफ ऐसे लोग हैं जो लोकतंत्र को बचाने की कोशिश कर रहे हैं और दूसरी तरफ ऐसे भी हैं जो इसे नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं। सिन्हा ने कहा कि देश भर में लोगों से मिलने के बाद उन्हें अहसास हो रहा है कि लोग डरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि सांसद हो या आम आदमी, सभी में डर का भाव है।

उन्होंने कहा कि पहले संसद में विरोध के बाद सांसदों को बाहर आने के बाद भी विरोध करने का अधिकार था, लेकिन अब ऐसा नहीं है। कई बार ऐसा हुआ है कि विरोध के कारण सदन को स्थगित करना पड़ा है और राजनीतिक दलों के लोग बाहर विरोध करते थे लेकिन अब यह संभव नहीं है।

अब वह न तो संसद के अंदर और न ही बाहर बोल सकता है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग किया जा रहा है, वह किसी से छिपा नहीं है। उन्होंने कहा कि गोवा में कांग्रेस पार्टी को तोड़ने का प्रयास किया गया लेकिन सफलता नहीं मिली।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इस अवसर पर झारखंड प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर और ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम उपस्थित थे।