Breaking :
||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस
Friday, June 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: UPA विधायकों ने राज्यपाल से की फैसला सार्वजनिक करने की मांग

रांची : झारखंड में सियासी घमासान के बीच संप्रग (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) विधायकों ने रविवार को राज्यपाल रमेश बैस से इस फैसले को सार्वजनिक करने की मांग की। साथ ही कहा कि राज्य में ऐसी स्थिति पैदा कर खरीद-फरोख्त को बढ़ावा दिया जा रहा है।

Raja AD

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

साथ ही सवाल उठाया कि जब जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 9ए के तहत किसी की सदस्यता रद्द नहीं की गई है तो सीएम हेमंत सोरेन के साथ संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर ऐसा व्यवहार क्यों किया जाए।

रविवार शाम को, झामुमो, कांग्रेस और राजद के विधायक सीएम आवास पर एकत्रित हुए, पत्रकारों से बात करते हुए, राज्यपाल रमेश बैस से जल्द से जल्द निर्णय देने का आग्रह किया। वहीं सवाल उठाते हुए कहा कि क्या कारण है कि राज्यपाल ने चुनाव आयोग के पत्र पर अपनी मंशा नहीं बताई है। ऐसी कौन सी कानूनी सलाह है, जो आप नहीं ले सकते।

Raja AD 2