Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी
Monday, April 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

बकोरिया कांड में मारे गये उदय यादव के पिता ने अर्जी देकर सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट की मांगी कॉपी

रांची : पलामू जिले के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया में आठ जून 2015 को हुए चर्चित कथित पुलिस नक्सली मुठभेड़ मामले में मृतक उदय यादव के पिता जवाहर यादव ने सीबीआई कोर्ट में अर्जी दाखिल की है।

शनिवार को सीबीआई की विशेष अदालत में इस मामले की सुनवाई के लिए तारीख तय की गयी थी, लेकिन किसी कारण से मामले की सुनवाई नहीं हो सकी। अब इस मामले की अगली सुनवाई 30 मई को होगी। शनिवार को जवाहर यादव ने कोर्ट में अर्जी दाखिल कर सीबीआई द्वारा दाखिल क्लोजर रिपोर्ट की कॉपी मांगी। एनकाउंटर में मारे गये उदय यादव के पिता जवाहर यादव हैं।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गौरतलब है कि बकोरिया में आठ जून 2015 को हुई कथित पुलिस-नक्सली मुठभेड़ के मामले में सीबीआई दिल्ली ने प्राथमिकी दर्ज की थी। यह प्राथमिकी झारखंड हाई कोर्ट के 22 अक्टूबर 2018 को दिये आदेश पर दर्ज की गयी थी। इस घटना में पुलिस ने 12 नक्सलियों को मुठभेड़ में मारने का दावा किया था।

मृतकों के परिजनों ने इसे फर्जी मुठभेड़ बताते हुए हाई कोर्ट में सीआईडी की जांच पर सवाल उठाते हुए सीबीआई जांच की मांग की थी। सीबीआई ने पलामू के सदर थाना कांड संख्या 349/2015, दिनांक 09 जून 2015 के केस को टेकओवर करते हुए प्राथमिकी दर्ज की थी। मुठभेड़ में मारे गये 12 लोगों में सिर्फ डॉक्टर आरके उर्फ अनुराग के अलावा किसी का कोई नक्सल रिकॉर्ड नहीं था। सीबीआई ने 19 अप्रैल को मामले क्लोजर रिपोर्ट सौंपी थी।

पलामू बकोरिया कांड न्यूज