Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

चाईबासा: दो लाख का इनामी PLFI जोनल कमांडर ससुराल से गिरफ्तार, AK-47 समेत कई हथियार बरामद

चाईबासा पुलिस ने दो लाख रुपये इनामी पीएलएफआई के जोनल कमांडर संतोष कंडुलना को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

शनिवार को हुई प्रेस वार्ता में चाईबासा के एसपी आशुतोष शेखर ने बताया कि पश्चिमी सिंहभूम के गुदड़ी, बंदगांव, तोरपा, तपकरा, रनिया, खूंटी, सोनूवा और मुरहू थाने में संतोष कंडुलना पर हत्या और हत्या के प्रयास समेत 33 मामले दर्ज हैं। झारखंड सरकार की ओर से उस पर दो लाख का इनाम घोषित था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

पुलिस ने उसके पास से एक लोडेड एके-47 राइफल, दो एके-47 मैगजीन, 103 जिंदा गोलियां, पीएलएफआई रसीद बुक, दो टचस्क्रीन और 6 कीपैड मोबाइल, 5 सिम कार्ड, पाइड पाउच, काले रंग के कैरी बैग और दैनिक उपयोग के सामान बरामद किया है।

बंदगांव थाना क्षेत्र के सोगा गांव में संतोष को उसके ससुराल से गिरफ्तार किया गया. एसपी ने बताया कि 14 जुलाई को संतोष की सूचना मिलने पर पुलिस टीम का गठन किया गया था। संतोष कंडुलना के सोगा गांव में होने की सूचना मिलने पर पुलिस टीम ने वहां घेराबंदी कर दी। इसी क्रम में एक संदिग्ध घर के पिछले दरवाजे से फायरिंग करते हुए जंगल की ओर भागने लगा, लेकिन पुलिस बल की घेराबंदी के कारण उसे सरेंडर करना पड़ा।

छापेमारी टीम में सीआरपीएफ की 60वीं बटालियन के 2आईसी विकास सिंह, चाईबासा एएसपी ऑपरेशन उमेश कुमार साह, एएसपी सह एसडीपीओ कपिल चौधरी, बंदगांव थाना प्रभारी विकास कुमार, टेबो थाना प्रभारी सुबोध सिंह मुंडा, बंदगांव थाना अधिकारी, सैट 55 सशस्त्र बल, सीआरपीएफ 60 क्यूआरटी, झारखंड की 15वीं बटालियन जगुआर और 194 बटालियन सीआरपीएफ शामिल थे।