Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: जहरीली चाट खाने से छोटे बच्चों समेत दो दर्जन लोग हुए फूड प्वाइजनिंग के शिकार, सीएचसी में भर्ती, इलाज जारी

लातेहार : बालूमाथ थाना सीमा क्षेत्र से सटे हेरहंज थाना क्षेत्र के लावागड़ा गांव में शुक्रवार की शाम जहरीली चाट खाने से 20 बच्चों समेत करीब दो दर्जन लोग बीमार पड़ गये हैं। इन सभी को गंभीर हालत में बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है, जहां डॉ संजय सिद्धार्थ की देखरेख में इलाज किया जा रहा है।

Balumath food poisoning News
Balumath food poisoning News

प्राप्त जानकारी के अनुसार लावागड़ा गांव में एक ऑटो सवार चाउमीन, चार्ट और पानी-पूरी (फुचका) बेचने गया था, जिसने गांव क्षेत्र का भ्रमण कर कई दर्जन लोगों को अपने ऑटो से पानी पूरी, चाउमीन, चाट आदि खिलाया। लेकिन जिन लोगों ने चाट खायी उनकी तबीयत अचानक बिगड़ने लगी और एक घंटे बाद चाट खाने वाले को उल्टी और दस्त होने लगी। देखते ही देखते गांव क्षेत्र में अफरा-तफरी का माहौल बन गया और करीब दो दर्जन लोगों को उल्टी-दस्त जैसी बीमारी हो गयी। तब लोगों को समझ आया कि चाट खाने से सबकी तबीयत खराब हो गयी है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जो फूड पॉइजनिंग का शिकार हुए उनमें लावागड़ा ग्राम के राजू राम के पुत्र संकेत कुमार, पुत्री माही कुमारी, राजेश गंझू का पुत्र माहिर कुमार, पुत्री अंकिता कुमारी, संतोष भूईया की पत्नी पिंकी देवी, निकलेश गंझू का पुत्र अनुराग कुमार, लक्ष्मण गंझू का पुत्र ऋषिकांत कुमार, रामचंद्र गंझू की पुत्री आरोही कुमारी, कजरू भुइया की पुत्री निशु कुमारी, पुत्र निशांत कुमार, दीपू भुइया का पुत्र आयुष कुमार, कालू राम की पुत्री बबली कुमारी, रिंकू भुईया का पुत्र शत्रुघन कुमार, अजय भुईया का पुत्र पूनम कुमारी समेत करीब दो दर्जन लोग शामिल है। सभी को परिजनों की सहायता से बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लाया गया है, जहां पर डॉक्टर संजय सिद्धार्थ की देखरेख में इलाज किया जा रहा है।

फिलहाल सभी बीमार लोगों की हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है। लेकिन इलाके में यह चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं, बालूमाथ हॉस्पिटल में जगह की कमी के कारण मरीज खड़े नजर आते हैं, एक मिनट में चार-पांच लोग बैठते-बैठते हैं। जमीन पर बैठकर इलाज करा रहे हैं।

Balumath food poisoning News