Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

बरवाडीह में दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला शुरू

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह का दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला मंगलवार से शुरू हो गया। मेला के पहले दिन लोगों की कम भीड़ रही। मेला स्थल पर विभिन्न गांवों से ग्रामीण मांदर, नगाड़े के साथ नाचत-गाते पहुंचे। इसके बाद मां दुरजागिंन पूजा स्थल से झंडा को लेकर मेला के चारों ओर भ्रमण कराया गया। मेला कई साल पहले से लगते आ रहा है। मेला को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। पूर्व में मेला की रौनक देखते बनती थी, लेकिन धीरे-धीरे मेला की रौनक फीकी होने लगी है। हालांकि स्थानीय लोग फिर से मेला में रौनक लाने की कोशिश में लगे हुए हैं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मेला में पुलिस नियंत्रण कक्ष व स्वास्थ्य विभाग की ओर से शिविर भी लगाया गया है। नियंत्रण कक्ष में तैनात अधिकारी पैनी नजर लगातार बनाए हुए है। जो मेले की हर पल की गतिविधि पर ध्यान रखे हुए हैं। मेला में आने वाले हर संदिग्धों पर नजर रखने के लिए इस बार विशेष रूप से पुलिस बल की तैनाती की गयी है। जहां 12 घंटो की पालियों में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गयी है।

मेला देखने पहुँचे लोगों में निराशा

बता दें कि मेले में दूसरे क्षेत्र से आए झूला लगाने वाले लोगों ने झूला तो लगा दिया लेकिन प्रशासन की मनाही के बाद पूर्ण रूप से झूला का संचालन नहीं किया गया। जिससे लोगों में खासी नाराजगी देखी गई। लोगों ने बताया कि केवल झूला से ही कोरोना संक्रमण का फैलाव होगा या फिर मेला का आयोजन से भी हो सकता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *