Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

CRPF सहायक कमांडेंट के पद पर चयनित बरवाडीह के लाल स्कंद का प्रशिक्षण संपन्न, पासिंग आउट परेड में शामिल हुए माता-पिता

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : कभी नक्सलवाद के नाम पर अपनी पहचान बनाने वाला बरवाडीह अब अपने लाल के नाम पर काबिलियत का झंडा ऊंचा कर रहा है। प्रखंड मुख्यालय के स्थित विजयनगर के रहने वाले सेवानिवृत्त शिक्षक राज किशोर प्रसाद का पुत्र स्कंद कुमार का वर्ष 2020 में यूपीएससी के जरिए सीआरपीएफ सहायक कमांडेंट के पद पर चयन हुआ था।

जिसका लगभग 53 सप्ताह के प्रशिक्षण के बाद गुरुवार को दिल्ली के गुरुग्राम स्थित सीआरपीएफ की ट्रेनिंग अकादमी में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। इस दीक्षांत समारोह परेड में स्कंद के पिता सेवानिवृत्त शिक्षक राज किशोर प्रसाद और माता उषा देवी समेत परिवार के कई अन्य सदस्य और मित्र शामिल हुए।

दीक्षांत समारोह परेड के बाद स्कंद कुमार के कंधों पर सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट के रूप में सितारा लगाने का सौभाग्य स्कंद कुमार के माता-पिता को मिला जो अपने आप में गौरव और भावुक कर देने वाला क्षण था। स्कंद कुमार अपनी पूरी सफलता का श्रेय माता पिता के आशीर्वाद, त्याग और शिक्षकों व साथियों के उचित मार्गदर्शन को देते हैं।

उन्होंने कहा कि हमारा गृह क्षेत्र पिछड़ा और नक्सलवाद के नाम पर बदनाम हुआ करता था लेकिन यहां प्रतिभाओं की कमी नहीं है। जरूरत है तो उसे उचित मार्गदर्शन की जो हम जैसे युवाओं को प्राप्त हुआ है और हम भी अपने आने वाली पीढ़ियों की सफलता के लिए हर संभव मदद करेंगे।

इधर, स्कंद कुमार के पिता राजकिशोर प्रसाद ने बताया कि पूरे जीवन का यह सबसे सफल और सुखद क्षण है कि आज बेहतर मार्गदर्शन शिक्षा और संस्कार के बदौलत हमारा पुत्र भारत माता की सेवा के लिए बतौर सहायक कमांडेंट के पद पर चयनित हुआ है और उसके प्रशिक्षण पूर्ण होने पर इस गौरवपूर्ण क्षण में शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *